Published On : Thu, Sep 11th, 2014

देउलगांव मही : बांध लबालब, नदी में 5 साल बाद आई बाढ़


जिले में हो रही है भारी बारिश


Khadakpurna Damp
देउलगांव मही (बुलढाणा).

पिछले दो दिनों से खड़कपूर्णा परियोजना के जलग्रहण क्षेत्र में जोरदार बारिश हो रही है. इससे किसानों के लिए वरदान साबित हो रही खड़कपूर्णा परियोजना के जलसंग्रह में भारी वृद्धि हुई है. फिलहाल इस परियोजना में 97 प्रतिशत से अधिक जल संग्रह हो चुका है. सुरक्षा की दृष्टि से इस परियोजना से 5 से 6 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है. इस पानी के कारण पूर्णा उफन-उफन कर बह रही है. बाढ़ के कारण बचाव की दृष्टि से नदी किनारे रहने वाले लोगों को सावधान रहने की चेतावनी दी गई है. मजे की बात यह कि 5 सालों में पहली बार ही नदी में बाढ़ आई है. बाढ़ को देखने के लिए आसपास के नागरिकों ने गर्दी कर रखी है.

संत चोखा सागर परियोजना लबालब
लाखों किसानों की हरितक्रांति का सपना पूरा करने के लिए करोड़ों रुपया खर्च कर 160.61 मिलियन क्षमता की संत चोखा सागर परियोजना बनाई गई है. इस परियोजना की लंबाई 311 मीटर है और इसमें 12 बाय 8 आकार के 19 दरवाजे हैं. पिछले साल भी जोरदार बारिश के बाद इस परियोजना से पानी छोड़ा गया था. पिछले दो दिनों से परियोजना के जलग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश होने के कारण परियोजना में 97 फीसदी पानी भरा है.

फसलों को क्षति, घरों को नुकसान
आज सुबह दस बजे सुरक्षा की दृष्टि से परियोजना के सभी 19 दरवाजे खोले गए थे. इससे पूर्णा में बाढ़ आ गई है. इसी तरह बारिश के कारण येलदरी बांध का जलसंग्रह भी बढ़ गया है. नदी किनारे रहने वाले लोगों को सावधान रहने को कहा गया है. हालांकि पिछले दो दिनों से हो रही भारी बारिश से किसानों का बहुत नुकसान हुआ है. फसलों को भारी क्षति पहुंची है. कुछ घरों को भी नुकसान पहुंचने की खबर है.