Published On : Sat, Aug 23rd, 2014

चिमूर : शिवसेना की चिमूर तालुका को सुखाग्रस्त घोषित करने की मांग


मोटरसायकल रैली

चिमूर

बारिश की अनियमितता के चलते किसानों की चिंता बढ़ रही है. महाराष्ट्र शासन ने 123 तालुकों को सुखाग्रस्त घोषित किया परंतु चिमूर तालुका का उसमे नाम नहीं है. तालुका को सुखाग्रस्त घोषित करे तथा दूसरी मांगो को लेकर शिवसेना के उपजिला प्रमुख तथा पूर्व जिला परिषद सदस्य विलास डांगे के नेतृत्व में उपविभागीय अधिकारी विजय उरकुडे को निवेदन दिया है.

मोटर सायकल रैली
मोटर सायकल रैली शंकरपुर, भिसी, जांभुलघाट, नेरी मार्ग से होते हुए चिमूर आकर उपविभागीय अधिकारी को निवेदन सौंपा गया. विलास डांगे ने मोटर सायकल रैली का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि, महाराष्ट्र शासन किसानो के हित के लिए नहीं है. सिर्फ आश्वासन देने का काम करती है. प्रशासकीय अधिकारी भी नागरिकों को परेशान करते है. पिछले साल हुए नुकसान की भरपाई अभीतक किसानों को नही मिली. ऐसे अधिकारियों को शिवसेना स्टाइल में सबक सिखाया जाएगा. इस दौरान नागभीड़ शिवसेना तालुका प्रमुख संतोष रडके, चिमूर तालुका शिवसेना प्रमुख भाऊराव ठोम्बरे ने सरकार के रवैये का विरोध किया.

किसानों का कर्ज माफ़ करे, दे 100 प्रतिशत मुआवजा
उपविभागीय अधिकारी को दिए गये निवेदन में कहा गया की, चिमूर तालुका को सुखाग्रस्त घोषित करे, नागभीड़ और चिमूर तालुका के किसानों का कर्ज माफ़ करे, उनकों मुफ्त बीज दिए जाए, जिन किसानों ने दो-तिन बार बुआई की ऐसे नुकसानग्रस्त किसानों को 100 प्रतिशत मुआवजा दिया जाए, बिजली बिल माफ़ करके उनकी बिजली काटी न जाए, एक एकड से दो एकड तक शुष्क खेतों में हैंडपम्प देने की योजना शासन की ओर से शुरू की जाए इस तरह की मांगे निवेदन द्वारा की गई.

Representational pic

Representational pic