Published On : Tue, Jul 22nd, 2014

चिखली नगर परिषद का कामकाज 6 दिन से ठप


अपनी मांगों के लिए न. प. कर्मी हड़ताल पर


चिखली

strike
अपनी न्यायोचित मांगों के लिए गत 15 जुलाई से चिखली नगर परिषद के कर्मचारियों के बेमुद्दत हड़ताल पर जाने के कारण नगर परिषद कार्यालय का कामकाज ठप पड़ा हुआ है. हड़ताल को 6 दिन बीतने के बाद भी कोई हल नहीं निकल सका है.

इस बीच, 21 जुलाई को विधायक राहुल बोंद्रे और नगराध्यक्ष शोभाताई सवडतकर ने हड़ताली कर्मचारियों से भेंट कर उनकी समस्याओं को समझने की कोशिश की. विधायक बोंद्रे ने आश्वासन दिया कि वे स्वयं मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण से मिलेंगे और इस संबंध में बात करेंगे. इस अवसर पर नगर परिषद उपाध्यक्ष मो. असीफ, मुख्याधिकारी करणकुमार चव्हाण, पप्पूसेठ हरलालका, पूर्व नगराध्यक्ष अरुणाताई कदम, रामदास देव्हडे, दीपक देशमाने, डॉ. प्रकाश शिंगणे, दीपक लहाने, सुनील सुरडकर, किशोर कदम, नंदकिशोर सडवतकर, गोकुल शिंगणे, विजय गाडेकर, रामदास मोरे आदि उपस्थित थे.

इस हड़ताल में संगठन के उपाध्यक्ष एफ. बी. शिंगणे, अभियंता एस. पी. भालेराव, अजय व्यवहारे, मुख्य लिपिक अ. रऊफ, लेखापाल टी. आर. बनसोडे, पर्यवेक्षक बी. डी. जाधव, अमित कोलते, दिलीप इंगले, जयेश खरात, एस. एस. कुलकर्णी, मो. सादिक, शेख जावेद, नरेंद्र कुटे, कैलाश नन्हई, ए. के. जाधव, प्रकाश पडोले, आर. वी. रावे, पी. पी. सोलंकी, पी. जी. भवन आदि सहित सभी कर्मचारी शमिल हैं.