Published On : Thu, Jul 24th, 2014

चंद्रपुर : बारिश मेहरबान तो कृषि कार्यालय वीरान


डस्टर पंप, सौर कंदील और ताड़पत्री के लिए भटक रहे किसान


चंद्रपुर

strike of chandrpur krushi vibhag  (1)
करीब डेढ़ महीने के अंतराल के बाद कहीं वरुण देवता चंद्रपुर जिले पर मेहरबान हुए हैं. इसके चलते किसान भी तेजी से अपने खेती के काम निपटाने में जुट गया है. जिले में 60 प्रतिशत बुआई पूरी हो चुकी है, लेकिन डस्टर पंप, सौर कंदील और ताड़पत्री के लिए किसान भटक रहा है. नागभीड़ तालुका में किसान परेशान हैं. बुधवार 23 जुलाई की दोपहर को जिला परिषद द्वारा बनाए गए कृषि विभाग में एक भी अधिकारी उपस्थित नहीं था. एक कुत्ता कार्यालय की निगरानी जरूर कर रहा था. कार्यालय में आनेवाले किसानों को भारी इंतजार के बाद खाली हाथ ही लौटना पड़ा.

किसानों का मजाक बना रहा कृषि कार्यालय
ग्रामीण भागों की जनता को जिला परिषद के माध्यम से विभिन्न योजनाओं का लाभ दिया जाता है. सरकार ने किसानों की सुविधा की दृष्टि से तालुका मुख्यालयों में जिला परिषद का एक कृषि कार्यालय खोल रखा है. इसी कार्यालय से किसानों को विभिन्न सुविधाओं की आपूर्ति की जाती है. यही कार्यालय किसानों की उम्मीद का केंद्र होता है. मगर यही कार्यालय किसानों का मजाक बना रहा है.

हर्षित और उत्साहित किसान बुआई में जुटा
बारिश की बेरुखी से दोबारा-तिबारा बुआई के संकट से जूझ रहे किसान पिछले 6 दिनों से चंद्रपुर सहित सभी तालुकों में हो रही बारिश से हर्षित और उत्साहित हैं. वह बुआई का काम पूरा करने में जुटा है. बुआई के बाद दवाओं के छिड़काव के लिए डस्टर पंप की जरूरत होती है. रात में खेतों की रखवाली के लिए सौर कंदीलों की आवश्यकता पड़ती है तो ताड़पत्री की जरूरत बारिश से बचाव के लिए होती है. ये दोनों यंत्र और ताड़पत्री किसानों को जिला परिषद के कृषि विभाग से मिलती है.

strike of chandrpur krushi vibhag  (2)
दो-ढाई घंटे की प्रतीक्षा

23 जुलाई को दोपहर 2 बजे जब वाढोना, नवखला, बामणी के किसान नागभीड़ पंचायत समिति के तहत आनेवाले कृषि विभाग पहुंचे तो वहां एक भी कर्मचारी उपस्थित नहीं था. नवखला के नंदू मुरलीधर निकुरे और वाढोना के संजय चुन्नीराम गहाने को डस्टर पंप और ताड़पत्री की जरूरत थी. सुलेझरी के डोमा नत्थू श्रीरामे डस्टर पंप लेने आए थे. बामणी के सुभाष भदुजी देवाड़े और वाढोना के अनिल मुत्यलवार सौर कंदील लेने आए थे. दो-ढाई घंटे की प्रतीक्षा के बाद भी कोई कर्मचारी नहीं आया.

… तो युवाशक्ति संगठन आंदोलन करेगा
किसानों ने युवाशक्ति संगठन के तालुका संगठक चोखेश्वर झोड़े से मुलाकात की. झोड़े ने इस संबंध में कृषि अधिकारी उमेश नैताम से संपर्क कर समस्याएं सुलझाने का फैसला किया, मगर उनसे संपर्क नहीं हो सका. किसानों ने अधिकारियों से इस तरफ ध्यान देने की अपील की है. झोड़े ने कहा है कि इस मामले की शिकायत वे वरिष्ठ अधिकारियों से करेंगे, जिला प्रशासन से पूछताछ करेंगे. संवर्ग विकास अधिकारी को ज्ञापन देकर कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग करेंगे. समस्याएं हल नहीं होने पर युवाशक्ति संगठन आंदोलन करेगा.