Published On : Mon, May 19th, 2014

चंद्रपुर : डॉक्टरों की लापरवाही से हर्षल की मौत


भाजपा ने किया धरना आंदोलन, जांच और कार्रवाई का आश्वासन


चंद्रपुर

Strike
चंद्रपुर के जिला सामान्य रुग्णालय में डॉक्टरों की कथित लापरवाही से पोभुर्णा के 13 वर्षीय बालक हर्षल सदाशिवराव गोरंतवार की मौत के मामले में भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष विधायक सुधीर मुनगंटीवार के नेतृत्व में धरना देकर मामले की जांच और दोषी डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई. दो घंटे तक चले धरने के दौरान खूब नारेबाजी की गई.

डॉक्टरों की कमिटी जांच करेगी
आंदोलन के बाद अस्पताल के निवासी वैद्यकीय अधिकारी डॉ. धोटे से भाजपा के एक शिष्टमंडल ने मुलाकात की, जिसमें डॉ. धोटे ने आश्वासन दिया कि हर्षल मृत्यु प्रकरण में तीन अधिकारियों की एक कमिटी बनाई जाएगी, जो जांच कर तीन दिन में अपनी रिपोर्ट देगी. उसी के आधार पर दोषी अधिकारी और कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश कर वरिष्ठ अधिकारियों को भेजी जाएगी. डॉ. धोटे के आश्वासन के बाद आंदोलन वापस लिया गया.

चंद्रपुर जिला संसर्गजन्य रोगों का शिकार
रविवार दोपहर को किए गए धरना आंदोलन के मौके पर विधायक सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि फ़िलहाल चंद्रपुर जिले में मलेरिया, डेंगू और टायफाइड जैसे संसर्गजन्य रोग फैले हुए हैं. पोभुर्णा तालुका में तो डेंगू से कुछ मरीजों की मौत तक हो चुकी है. उन्होंने कहा कि गांवों से जिला सामान्य रुग्णालय भेजे जाने वाले मरीजों को न तो बेड मिलते हैं और न ही ठीक से इलाज हो पाता है, न दवाइयां मिलती हैं. इतना होने के बावजूद अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारियों का इस तरफ ध्यान नहीं है. उन्होंने हर्षल की मौत की पूरी जांच करने, दोषी डॉक्टरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और अस्पताल की अव्यवस्था एवं असुविधाओं को दूर करने की मांग की. हर्षल की मौत शनिवार की रात हुई थी.

आंदोलन में भाजपा नेता राजेंद्र गांधी, जिप अध्यक्ष संतोष कुमरे, वनिता कानडे, तुषार सोम और महासचिव किशोर जोरगेवार के भाषण हुए. संचालन नगरसेवक रविंद्र गुरनुले ने किया. इस अवसर पर अजय जायसवाल, बलराम डोडानी, सोहेल अंसारी, शीला चव्हाण, शैलेंद्रसिंह बैस, पूजा गिरी, अर्जुनसिंह धुन्ना, जानकी तायवाडे, जावेद शेख सहित भारी संख्या में कार्यकर्ताओं ने भाग लिया.