Published On : Mon, May 5th, 2014

भंडारा : अब लोग घुम सकेंगे कोका अभयारण्य में


भंडारा

udghatan
नवेगांव-नागझीरा व्याघ्र प्रकल्प के महत्वपूर्ण हिस्से के रूप में पहचाना जानेवाला कोका वन्यजीव अभयारण्य अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर पर्यटकों के लिए खोल दिया गया. भंडारा (कोका) में विगत 2 मई को इसका उदघाटन भंडारा क्षेत्र के विधायक नरेंद्र भोंडेकर के हाथों किया गया. विधायक भोंडेकर ने विधिवत फीता काटकर अभयारण्य का उदघाटन किया तथा पर्यटकों के लिए तत्काल प्रभाव से उसे खुला कर दिए जाने की घोषणा की.

नवेगांव नागझीरा व्याघ्रप्रकल्प में समाविष्ट कोका वन्यजीव अभयारण्य का प्रस्ताव वाइल्ड वॉच फाउंडेशन द्वारा सन 2012 में पेश किए जाने के बाद गतवर्ष उसे मान्यता मिली थी. अभयारण्य को मान्यता दिलाने में वाइल्ड वॉच के अलावा वाइल्ड रोर, संकल्प, पांडा, ईको एस्कॉर्ट आदि स्वयंसेवी संगठनों का भी योगदान रहा. उसी की परिणतिस्वरूप 2 मई को अभयारण्य पर्यटन के लिए खोल दिया गया. कोका वन्यजीव अभयारण्य के उदघाटन के अवसर पर वन्यजीव विभाग के एसीएफ एस. के. गायकवाड., डीएफओ कातोरे, वनक्षेत्राधिकारी डी. आर. कुंभारे, पी. जे. पाटिल, स्टेट बैंक के मुख्य प्रबंधक अरविंद अभ्यंकर, मानद वन्यजीव संरक्षक राजकमल जोब, वाइल्ड वॉच फाउंडेशन के नदीम खान, दीपक चड्ढा, शैलेंद्र राजपूत, विवेक महाकालकर, धीरज सिरिया, रितेश कंबले, राहुल मेश्राम, आदित्य अग्रवाल के अलावा वन्यप्रेमी और शौकिया पर्यटक बड़ी संख्या में वहां उपस्थित थे.

कोका अभयारण्य भंडारा शहर से सटा और राष्ट्रीय महामार्ग से बेहद करीब होने के कारण इस अभयारण्य में पर्यटकों की संख्या में बढ.ोतरी होने की संभावना जताते हुए विधायक भोंडेकर ने शहर में होटल, रिसोर्ट, उपहारगृह और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रयास करने का आश्‍वासन दिया. अक्षय तृतीया पर कोका अभयारण्य में प्रवेश करते हुए पर्यटकों का वाहन. दूसरे चित्र में फीता काटकर उदघाटन करते हुए विधायक नरेंद्र भोंडेकर.

पर्यटकों ने देखे बाघ, तेंदुए
उदघाटन के बाद पहले ही दिन कोका अभयारण्य में भ्रमण के लिए पर्यटकों की खासी भीड. उमड. पड़ी. इन पर्यटकों के लिए वनभ्रमण की सुविधा वन्यजीव विभाग की ओर से उपलब्ध कराई गई. पहले दिन अभयारण्य के राजडोह, पाझर तालाब, अजनी रिठी, अजनी हमेशा, आमगांव, उसगांव, सोनकुंड परिसर में जलाशयों के इर्दगिर्द बाघ, तेंदुए, भालू और अन्य अनेक वन्यप्राणी दिखाई दिए. बताया गया कि पहली सफारी के तहत अभयारण्य में सात वाहनों को प्रवेश दिया गया. विभाग के सूत्रों ने कोका अभयारण्य के भंडारा प्रवेशद्वार से एक दिन में सात वाहनों को प्रवेश दिया जा रहा है. इसमें सुबह 6 बजे और अपराह्न 2.30 बजे पर्यटक अपने वाहनों से प्रवेश ले सकते हैं.