Published On : Fri, Jun 20th, 2014

गड़चांदुर : विद्यार्थी नए उत्साह के साथ अंग्रेजी सीखें


अल्ट्राटेक सीमेंट के उप महाप्रबंधक रमण कुमार ने कहा


10 वीं के विद्यार्थियों की कोचिंग कक्षाओं का समापन

गड़चांदुर

ultratech
अल्ट्राटेक सीमेंट लिमिटेड आवारपुर के उप महाप्रबंधक मेजर रमण कुमार ने कहा कि अंग्रेजी और गणित को आज के इस स्पर्धा के युग में भारी महत्त्व प्राप्त हो गया है. अंग्रेजी तो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रभावी संदेशवाहक बनी हुई है. इसलिए नए उत्साह के साथ इस भाषा को सीखें.

एक माह की कोचिंग
वे 10 वीं के विद्यार्थियों के लिए संचालित अंग्रेजी तथा गणित की कोचिंग कक्षाओं के समापन समारोह में अध्यक्षीय आसन से बोल रहे थे. ये कक्षाएं स्थानीय अल्ट्राटेक सीमेंट लिमिटेड आवारपुर द्वारा चलाई जा रही द आदित्य बिरला सेंटर फॉर कम्युनिटी इनिशिएटिव एंड रूरल डेवेलपमेंट परियोजना के तहत विगत 6 सालों से संचालित की जा रही हैं. ये कक्षाएं आवारपुर, बिबी, नांदा, नोकारी और पालगांव के 10 में पढनेवाले पंडित जवाहरलाल नेहरू विद्यालय आवालपुर एवं प्रभु रामचन्द्र विद्यालय नांदा के बच्चों के लिए आयोजित की गई थीं.
एक माह की इन कोचिंग कक्षाओं में आदित्य बिरला पब्लिक स्कूल की प्राचार्य श्रीमती डेफनी अंगर और अल्ट्राटेक सीमेंट आवारपुर के सहायक प्रबंधक संजय पेठकर प्रमुख अतिथि के रूप में उपस्थित थे. कोचिंग कक्षा के शिक्षक किशोर डंभारे तथा दिनेश खाड़े भी इस मौके पर मौजूद थे.

कठिनाई को समझने का प्रयास करें
इस अवसर पर किशोर डंभारे ने कहा कि अगर कोई विषय हमें कठिन लगता है तो उसे छोड़ने की बजाय कठिनाई को समझने का प्रयास करना चाहिए. बारीकी से उसका अध्ययन करें तो वही विषय कुछ दिनों बाद आसान लगने लगता है.
दिनेश खाड़े ने कहा कि अंग्रेजी से डर के कारण विद्यार्थी इसकी तरफ ध्यान नहीं देते, लेकिन इसके अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व को देखते हुए अंग्रेजी पर ध्यान देना बहुत जरूरी हो गया है. श्रीमती डेफनी अंगर ने कहा कि विद्यार्थी लक्ष्य निर्धारित कर पढाई करें.

बच्चों को शब्दकोष भेंट
कार्यक्रम में घनश्याम बढ़कल, संदीप कुंभारे, कु. स्नेहा बढ़कल, कु. विशाखा आगलावे और कु. ज्योति वेलेकार आदि विद्यार्थियों ने भी अपने विचार व्यक्त किए.
इस अवसर पर उपस्थित सभी बच्चों को शब्दकोष भेंट किया गया. कार्यक्रम का प्रस्ताविक भाषण संजय पेठकर ने किया जबकि संचालन एवं आभार प्रदर्शन सोनाली गवारगुर ने किया.