Published On : Thu, Jul 3rd, 2014

खामगांव : 900 भक्तों को लेकर खामगांव-पंढरपुर ट्रेन रवाना


पहली फेरी को गुरुवार को दिखाई गई हरी झंडी, स्टेशन पर जुटी भारी भीड़


खामगांव

‘विट्ठल-विट्ठल, जयहरि विट्ठल’ का जयघोष करते हुए सैकड़ों भक्त आज 3 जुलाई को खामगांव रेलवे स्टेशन से पंढरपुर के लिए रवाना हुए. विशेष ट्रेन विट्ठल-दर्शन एक्सप्रेस से रवाना इन विठोबा के भक्तों को विदा करने के लिए भी सैकड़ों लोग आए हुए थे.

चालक, सहचालक का सत्कार
आषाढी एकादशी के करीब आते ही पंढरपुर जाने वालों की भीड़ उमड़ पड़ती है. विठोबा के दर्शन के लिए कोई पैदल निकल पड़ता है तो अनेक लोग बसों और ट्रेनों से पंढरपुर जाते हैं. खामगांव से पंढरपुर के लिए स्पेशन रेल गाड़ी चलाई जाती है. इस ट्रेन का पहला सफर आज शाम 5 बजे शुरू हुआ. विधायक दिलीपकुमार सानंदा ने हरी झंडी दिखाई और ट्रेन भक्तों को लेकर पंढरपुर के लिए निकल पड़ी. इस मौके पर विधायक सानंदा के हाथों ट्रेन के चालक ए. के. डोहरे, सहायक चालक भारत भूषण मीना और गार्ड परदेशी का शाल-श्रीफल देकर सत्कार किया गया.

विशेष ट्रेन का 14 वां साल
खामगांव से पंढरपुर तक रोज स्पेशल ट्रेन चलाने की मांग खामगांव-जलंब रेल प्रवासी संगठन लगातार करता रहा था. संगठन के अध्यक्ष रामेश्वर भिसे, रमेश कांडेकर, सुरेश काले, उमाकांत कांडेकर, पांडुरंग धोपे, गजानन डोके, बजरंग राजपूत, राजेश ठाकुर, राजकुमार शर्मा, गजानन सोनटक्के, रमेश मानकर सहित सारे पदाधिकारी मांग का लगातार पीछा करते रहे. आखिर 2003 से खामगांव से पंढरपुर के लिए विशेष ट्रेन शुरू की गई. विशेष ट्रेन का यह 14 वां साल है.

पहली फेरी के कई बने गवाह
आज शाम ट्रेन को हरी झंडी दिखाने के गवाह बनने के लिए रेलवे स्टेशन पर जिला परिषद अध्यक्ष वर्षाताई बनारे, स्टेशन प्रबंधक एस. पी. वरुडकर, न.प. उपाध्यक्ष संतोष देशमुख, पूर्व नगराध्यक्ष अशोकसिंह सानंदा, पार्षद अर्चना टाले, पार्षद अमोल निचारे उपस्थित थे. पहली फेरी में 900 यात्री पंढरपुर रवाना हुए. टिकटों की बिक्री से रेलवे को 1 लाख 17 हजार 206 रुपयों की आय हुई.

File Pic

File Pic