Published On : Sat, Jul 12th, 2014

खामगांव : पटवारी की उदासीनता से किसान और छात्र परेशान


जरुरी दस्तावेजों के लिए दलालों द्वारा लूट

खामगांव

यहां के ग्रामीण इलाकों के पटवारी मुख्यालय के बजाय तहसिल कार्यालय में बैठ रहे है जिससे किसानों और छात्रों को दस्तावेज हासिल करने में काफी परेशानीयों का सामना करना पड रहा है. किसानों और छात्रों का कहना है कि बुआई और स्कुल के नए सत्र में दस्तावेज के लिए पटवारी की जरुरत होती है इसलिए अभिलेख आधुनिकीकरण अभियान को बंद करके किसान और छात्रों को जरुरी दस्तावेज उपलब्ध कराया जाना चाहिए. परंतु इन जरुरी प्रमाणपत्र के लिए छात्रों को सेतु कार्यालय में दलालों को 200 से 300 रूपये वसूले जा रहे हैं.

राष्ट्रीय भूमि अभिलेख आधुनिकीकरण कार्यक्रम में व्यस्त पटवारी मुख्यालय की वजह तहसील कार्यालय में रहते है जिससे किसानों को जरुरी प्रमाणपत्र समय पर नहीं मिल पा रहे हैं. प्रशासन की उदासीनता ने किसान और विद्यार्थियों दोनों को परेशान कर रखा हैं.

किसानो और छात्रों की परेशानी को देखते हुए प्रशासन द्वारा इस ओर हस्तक्षेप करते हुए पटवारी को अपने मुख्यकार्यालय में उपस्थित रहने के निर्देश देने चाहिए ऐसी मांग नागरिको की ओर से की जा रही है.

File pic

File pic