Published On : Sat, Aug 2nd, 2014

उमरखेड़ : …तो डेक्कन शक्कर कारखाने को नहीं देंगे एक भी गन्ना


भाजपा की चेतावनी, उमरखेड़-महागांव तालुका के किसानों ने निकाला मोर्चा


उमरखेड़

morcha BJP
उमरखेड़-महागांव तालुका के गन्ना उत्पादक किसानों को अगर उनके गन्ने का उचित मुआवजा नहीं दिया गया तो आगामी मौसम में डेक्कन शक्कर कारखाने को इस इलाके से एक भी गन्ना नहीं दिया जाएगा. भाजपा के डॉ. विश्वनाथ विनकरे ने यह चेतावनी दी. गन्ना उत्पादक किसानों के शक्कर कारखाने पर ले जाए मोेर्चे में वे बोल रहे थे.

वादा किया था ज्यादा भाव देने का
पिछले मौसम में उमरखेड़-महागांव के अनेक किसानों ने मंगरुल स्थित डेक्कन शक्कर कारखाने को गन्ना दिया था. उस वक्त डेक्कन शक्कर कारखाने ने आश्वासन दिया था कि पड़ोस का कारखाना गन्ने का जो भाव देगा वही भाव डेक्कन शक्कर कारखाना भी देगा. इस आश्वासन के बाद डेक्कन शक्कर कारखाने ने 1700 रुपए प्रति टन के हिसाब से किसानों को गन्ने का भाव दिया. लेकिन पड़ोस के हदगांव स्थित भावराव शक्कर कारखाने ने गन्ने का भाव 2000 रुपए प्रति टन के हिसाब से दिया.

कारखाने ने नहीं दिया शिकायतों पर ध्यान
इस हिसाब से डेक्कन शक्कर कारखाने को अपना वादा निभाते हुए प्रति टन 300 रुपए के हिसाब से भुगतान करना चाहिए था. बार-बार इस संबंध में ज्ञापन देने के बावजूद कारखाने ने कोई ध्यान नहीं दिया. यह धन किसानों के वर्तमान संकट के दौर में एक बड़ी सहायता साबित हो सकता था.

अपर जिलाधिकारी को सौंपा मांगों का ज्ञापन
डेक्कन शक्कर कारखाने के इसी रवैये के विरोध में भाजपा की ओर से विशाल मोर्चा निकाला गया, जो कारखाने पर ले जाया गया. मोर्चा की ओर से कार्यालय को अपनी मांगों का एक ज्ञापन दिया गया. साथ ही यवतमाल जाकर किसानों ने अपर जिलाधिकारी डी. एस. भट से भी अपनी व्यथा कही और उन्हें अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा.

किसानों ने लिया भारी संख्या में हिस्सा
मोर्चा का नेतृत्व भाजपा के जिला महासचिव मनोज इंगोले, उमरखेड़ विधानसभा के प्रभारी अजय बिहाडे, भाजयुमो अध्यक्ष जयदीप सानप, अजासेल के भाविक भगत, रमेश चव्हाण, सुनील टेमकर, सुनील टाक, विजय आडे, रामजी नाईक, प्रा. पाचकोरे, नारायण इटकरी ने किया. मोर्चा में उमरखेड़ और महागांव तालुका के किसानों ने भारी संख्या में हिस्सा लिया. मोर्चे की सफलता के लिए रामदास थोटे और संभागी भोयर ने प्रयास किया.