Published On : Wed, May 7th, 2014

अकोला : अकोला के राम नगर में अवैध निर्माण धराशायी किया मनपा ने


शहर में अवैध निर्माण के खिलाफ कारर्वाई शुरू

अकोला

Atikraman Akola
महानगर पालिका ने अपनी सीमा क्षेत्र में कड़े कदम उठाते हुए अवैध निर्माण करनेवालों के खिलाफ कार्रवाई करने की प्रक्रिया मंगलवार से आरंभ कर दी है. महापालिका के नगर रचना विभाग से मंजूरी नहीं लेते हुए निर्माणाधीन एक इमारत का अवैध निर्माण मनपा नगर रचना विभाग के गजराज ने ढहा दिया. स्थानीय राम नगर स्थित मनोज सुरेका की इमारत पर मनपा के अधिकारियों ने यह पहली कार्रवाई की.

स्थानीय राम नगर स्थित मनोज सुरेका ने बिल्डिंग का निर्माण आरंभ किया था. महानगर पालिका ने शहर की निर्माणाधीन इमारतों के मालिकों को नोटिस जारी की थी, जिसके बाद सुरेका ने नगर रचना विभाग से बगैर मंजूरी ही निर्माण आरंभ कर दी थी. इसपर सुरेका द्वारा समाधानकारक उत्तर महापालिका को नहीं मिलने पर मंगलवार को नगर रचना एवं अतिक्रमण विभाग द्वारा इमारत ढहाने की कार्रवाई की गई. अब सुरेका ने नियम के अनुसार ही निर्माण करने और उससे अधिक निर्माण कार्य करने पर उसे तोड़ने की सहमति पत्र भी मनपा प्रशासन को दिया है.

निगमायुक्त डॉ. महेंद्र कल्याणकर ने इस मामले में स्पष्ट कर दिया है कि अब मनपा के नगर रचना विभाग द्वारा मंजूर नक्शे के तहत ही बिल्डिंग का निर्माण कार्य करवाना अनिवार्य है. इसके अलावा अनाधिकृत रूप से निर्माण करनेवालों की अब खैर नहीं है. निगमायुक्त ने बताया कि भविष्य में अनाधिकृत निर्माणकार्य करने ही नहीं दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि अब अनाधिकृत निर्माणकार्य करनेवाला व्यापारी बिल्डर हो या फिर एक मकान बनानेवाला सामान्य नागरिक, किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा.

उन्होंने कहा कि सभी को अपने भूखंड के दस्तावेज महापालिका के नगर रचना विभाग में जमा कर इस विभाग से इस भूखंड पर निर्माण के लिए मंजूरी लेनी होगी. अवैध निर्माणकार्य से गंदे पानी की निकासी, पार्किंग की समस्या तो होती ही है, साथ ही किसी भी तरह की दुर्घटना होने पर इस जगह पर तत्काल सेवा नहीं दी जा सकती. निर्माण कार्य छोटा हो या बड़ा, सामान्य नागरिकों का हो या बिल्डरों का, जनसेवक का हो या बड़े पदाधिकारी का, सभी के लिए यह नियम लागू है.