Published On : Mon, Aug 20th, 2018

कंजर्वेन्सी लेन के विचार पर अब तक आगे नहीं बढ़ी मनपा

Advertisement

नागपुर: कंजर्वेन्सी लेन (मकानों की 2 लाइनों में बची जगह) को लेकर गत सरकार की ओर से लगाई गई जटिल शर्तों को अब राज्य सरकार की ओर से शिथिल किए जाने से लीज के माध्यम से मनपा को लगभग 400 करोड़ की आय होने की संभावना बनी थी.

एक वर्ष पहले भले ही वरिष्ठ पार्षद दयाशंकर तिवारी ने योजना को कारगर रूप देकर मनपा की आय बढ़ाने का सुझाव दिया था, लेकिन वित्तीय संकट से जूझ रही मनपा इस तरह के आय के संसाधनों को लेकर मौन है.

Advertisement
Advertisement

माना जा रहा था कि शहर के कई इलाकों में इस तरह की कंजर्वेन्सी लेन है. पुराने समय में इस तरह की जगह ओपन ड्रेनेज या मलनिस्सारण वाहिनी के लिए सुरक्षित रखी जाती थी.

20-20 फुट तक यह जमीन उपलब्ध है, जिसका वर्तमान में कोई उपयोग नहीं हो रहा है, जबकि मनपा के पास इसकी मालकियत है.

यह जगह लीज पर देने के लिए कई मकान मालिकों ने मनपा से अनुरोध भी किया है. लेकिन जटिल शर्तों के कारण यह संभव नहीं हो रहा था.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement