Published On : Thu, Sep 11th, 2014

सारखणी : जंगल में मिलीं दो विद्यार्थियों की लाशें


दोनों के बीच प्रेम-संबंधों का शक, बुरी तरह मारा गया था


Sarkhani Murder
सारखणी (नांदेड़)

माहुर स्थित रेणुकादेवी मंदिर के निकट स्थित ऐतिहासिक रामगढ़ किले के घने जंगल में इंजीनियरिंग कॉलेज के दो विद्यार्थियों की लाशें मिली हैं. लाशें लड़का-लड़की की हैं और दोनों पुसद के इंजीनियरिंग कॉलेज के विद्यार्थी थे. हालांकि इस वर्ष लड़के ने यवतमाल में प्रवेश लिया था. पुलिस ने दोनों के बीच प्रेम संबंधों की संभावना से इनकार नहीं किया है. मृतकों के नाम शाहरुख और नीलोफर बताए गए हैं.

नीलोफर को सुबह कॉलेज छोड़कर गया था भाई
बताया जाता है कि 10 सितंबर को नीलोफर को उसका भाई मोटरसाइकिल से एन. पी. हिरानी महाविद्यालय छोड़कर गया था. लेकिन शाम को जब वह उसे लेने गया तो वह कॉलेज में नहीं थी. उसका फोन भी बंद आ रहा था. भाई ने इसकी जानकारी अपने घर में दी. बताया जाता है कि शाहरुख उमरखेड़ से अपनी कार लेकर माहुर जाने की बात कहकर घर से निकला था. शाम तक घर नहीं वापस आने पर उसके परिजनों ने फोन लगाया, मगर फोन बंद आया. इससे चिंतित करीब 40-50 रिश्तेदार सीधे माहुर शाहरुख की खोज के लिए निकल पड़े. पुलिस ने भी सूचना के बाद खोजबीन शुरू कर दी थी. इंजाला के निकट रेणुकादेवी मंदिर से शिखर मुख्य मार्ग पर शाहरुख की कार दिखाई दी.

Sarkhani Murder
कौन थे वे तीन लोग ?

मंदिर के कुछ श्रद्धालुओं ने बताया कि उन्होंने पहले शाहरुख और नीलोफर को जंगल की तरफ जाते देखा और बाद में तीन लोग उनके पीछे-पीछे गए थे. तीनों मुंह पर कपड़ा बांधे हुए थे. 10 सितंबर को रात हो जाने के कारण तलाशी अभियान रोक दिया गया. 11 सितंबर को सुबह फिर तलाशी के दौरान दोनों की लाशें ही मिलीं.

Advertisement

दोनों मृतक प्रतिष्ठित घराने के
दोनों मृतक प्रतिष्ठित घराने के होने के कारण पुसद, यवतमाल और उमरखेड़ से अनेक दलों के तालुका और जिलास्तरीय पदाधिकारी और कार्यकर्ता रामगढ़ किले में स्थित घटनास्थल और ग्रामीण रुग्णालय भी पहुंचे थे. पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर वी. एन. भोसले, उपविभागीय पुलिस अधिकारी दत्तात्रय कांबले और पुलिस निरीक्षक डॉ. अरुण जगताप ने बताया कि दोनों की धारदार हथियारों से हत्या की गई थी. हत्या का समय 10 सितंबर की शाम 6 से 7 बजे बताया जाता है.

Advertisement

शक की गुंजाइश यहां भी
प्राप्त जानकारी के अनुसार जहां लड़का घर में बताकर माहुर गया था वहीं लड़की बिना घर में कुछ बताए गई थी. लेकिन लड़की के रिश्तेदार सीधे माहुर में उनकी खोज करने गए थे, इससे दोनों के बीच प्रेम संबंध होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता. दोनों को कई बार एक साथ घूमते भी देखा गया था. हालांकि कांबले ने दोनों के बीच प्रेम संबंध की संभावना से इनकार नहीं किया और कहा कि आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

Sarkhani Murder
ऐसा है घटनास्थल

माहुर शहर में रेणुकादेवी मंदिर के सामने महाकाली मंदिर स्थित है. वहीं ऐतिहासिक रामगढ़ किला सीना ताने खड़ा है. हालांकि अब उसकी टूट-फूट हो रही है, जिससे इस किले की मरम्मत का कार्य चल रहा है. इसके चलते किले में कहीं से भी प्रवेश किया जा सकता है. मुख्य रास्ते से इंजाला तालाब तक सीढ़ियां बनाई गई हैं. इससे आगे हत्ती दरवाजा, रानी महल और बारूदखाना जाने के लिए रास्ता बहुत ही ऊबड़-खाबड़ है. इसके आगे घना जंगल है. दोनों की लाशें हत्तीखाना से 40-45 मीटर दूर जंगल में मिलीं. लड़के के पैर पूर्व और सिर पश्चिम की तरफ था, जबकि लड़की पश्चिम की तरफ पड़ी थी और उसका मुंह घिसा हुआ था. लड़की के सिर में किसी तेज हथियार से आरपार वार किया गया था.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement