Published On : Fri, May 23rd, 2014

साकोली : नागझिरा में सक्रिय हुए शिकारी


जंगलों से गायब होने लगे कैमरा, टेप

साकोली

File Pic

File Pic

अभयारण्यों में वन्य प्राणियों के हालचाल पर नजर रखने के लिए वन विभाग ने जंगलों में विविध स्थानों पर कैमरा, टेप लगाए हैं, परंतु ये कैमरा, टेप इन दिनों शिकारियों की आंखों में खटकने लगे हैं, जिससे अब कैमरा, टेप की चोरी और उनकी तोडफोड की घटनाएं बढ़ने लगी हैं. आज तक अनेक कैमरा चोरी होने के बाद भी वन विभाग ने कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया है. परिणाम, शिकारियों की छाती फूलकर 56 इंच की होती जा रही है.

खतरा व चिंता
भंडारा जिले में नागझिरा व्याघ्र प्रकल्प, नागझिरा, न्यु नागझिरा, कोका व उमरेड-करांडला अभयारण्य हैं. इन अभयारण्यों में वन्य प्राणियों की संख्या अधिक है. शेर, तेंदुआ के साथ ही मोर, हिरण, बायसन, खरगोश, भालू आदि वन्य प्राणी हैं. हाल ही में की गई प्राणी-गणना में वन्यजीवों की संख्या बढ़ने की जानकारी मिली है. वन्यजीवों के लिए जिले के जंगल सुरक्षित होने के कारण शिकारियों के कदम भी अब इस ओर बढ़ने लगे हैं. यह खतरा व चिंता का विषय है.


क्यों लगाए गए कैमरा, टेप
इस अभयारण्य में वन्यजीवों पर नजर रखने के लिए अनेक जगहों पर
कैमरा, टेप लगाए गए हैं. इन कैमरों के सामने से वन्यजीव के गुजरने के बाद उनका फोटो ले लिया जाता है, जिससे कौनसा प्राणी, कहां गया इसकी जानकारी वन विभाग को मिल जाती है. इसके चलते शिकारियों ने कैमरा, टेप की तोडफोड करना शुरू कर दिया है. इसके पहले भी अनेक कैमरा, टेप के चोरी होने की जानकारी मिली है. इनका पता आज तक नहीं चला है. अभयारण्य में वन्यजीवों की बढ़ती संख्या को देखकर जंगलों में शिकारियों के कदम बढ़ते जा रहे है.

400 कैमरा, टेप खरीदेगा वन विभाग
विस्तीर्ण फैले जंगलों में वन्य प्राणी कहीं भी भटकते रहते हैं. उनका पता लगाने के लिए ही इन कैमरों की मदद ली जाती है. परंतु वन्यजीव विभाग के पास कैमरों की कमी होने और कैमरों की तोडफोड तथा चोरी होने से वन्यजीवों की जान का खतरा बढ़ गया है. भविष्य में 400 कैमरा, टेप खरीदने का वन्यजीव विभाग का निर्णय है. यह कैमरे जंगलों में लगाए जाएंगे, परंतु उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी कौन लेने वाला है, यह अनुत्तरीय है.

एक कैमरा चोर गिरफ्त में
न्यु नागझिरा अभयारण्य के उमरझरी वनपरिक्षेत्र में लगाया गया कैमरा, टेप शिकारियों ने तोड दिया. इस प्रकरण में दयाराम विठोबा रुखमोडे (52) मु.चांदोरी को वन विभाग ने गिरफ्तार किया है. हाल ही में जंगलों में वन्य प्राणियों की प्रगणना के लिए उमरझरी वनक्षेत्र में कैमरे लगाए गए. दयाराम रुखमोडे ने शिकार करने के इरादे से हथियार से जंगल में लगाए गए कैमरे की तोडफोड की. शासकीय संपत्ति के नुकसान के लिए दयाराम रुखमोडे के खिलाफ भारतीय वन अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं.

जंगल से शेर लापता
देश में शेरों का शिकार करने वाले कुछ शिकारियों को वन विभाग द्वारा धर दबोचने की जानकारी मिली है. भंडारा-गोंदिया जिले के शेरों का शिकार करने की जानकारी वन विभाग को मिली थी. भंडारा-गोंदिया जिले के कुछ शेर अनेक दिनों से लापता हैं. इनमें नागझिरा के ‘राष्ट्रपति व वीरू’ नामक शेर का भी समावेश है. अत्यंत रुबाबदार इस शेर के बारे में वन विभाग चुप बैठा है. अन्य शेरों के शिकार के बारे में भी पर्यटन प्रेमियों में चिंता है, परंतु वन विभाग कुछ बोलने को तैयार नहीं है. इन जंगलों में शिकारियों की टीमों के सक्रिय होने की जानकारी है. बौध्द पूर्णिमा के दिन की गई प्राणी-गणना में नवेगांव-नागझिरा जंगल में 4 ही शेरों को देखा गया. गर्मी के दिन होने के कारण जलाशयों पर पानी पीने के लिए आने वाले वन्यजीव विषेशतः शेरों पर शिकारियों की नजर रहती है. वन विभाग को इस ओर गंभीरता से ध्यान देने की आवश्यकता है.