Published On : Mon, Sep 1st, 2014

यवतमाल : उमरखेडवासियों के लिए संगीत महोत्सव


sangit mohtsav ki mejbaarni
उमरखेड (यवतमाल)

यहां के संगीत महाविद्यालय के गुरुवर्य वि.वा.वाघमारे के जन्मदिन के उपलक्ष पर स्थायी-पूर्व शिष्यों की ओर से हर साल संगीत महोत्सव का आयोजन किया जाता है. इस साल स्थानिक ब्राम्हण समाज सभा मंडप में आनंदमयी वातावरण में संगीत गौरव महोत्सव मनाया गया. इस महोत्सव में देशभक्ति और भावगीत स्पर्धा और गायक प्रा.डॉ. राजीव बोरकर ने अपने सुमधुर गायन का कार्यक्रम प्रस्तुत किया. कार्यक्रम उद्घाटन अध्यक्ष राजुभाऊ नजरधने साथ ही नितिन भुतडा ने किया, गजानन कदम (नागपूर), आदेश जैन, अजय नरवाड़े, नामदेव ससाने, विजय गुजरे, राजू भोकरे, सदाशिव कदम, बाला पाटिल की प्रमुख उपस्थिति थी.

कार्यक्रम में मान्यवर के हांथों से 10 वी,12 वी, पदवीधर और विविध क्षेत्र के गुणवान विद्यार्थियों को मानचिन्ह देकर सम्मानित किया गया. संगीत महाविद्यालय के विद्यार्थी रूपाली बुचड़े, रूपाली इंगोले, दीपमाला शिंदे, मुक्ता ओझलवार, श्रीपाद ओझलवार, संकल्प लोमटे,अभिषेक काले, गणेश इंगोले, आदित्य पत्रे, विवेक वाघमारे, आदित्य दराडे आदि और भी छात्र-छात्राओं ने इस महोत्सव में गीत गाकर और वाद्य बजाकर गुरु वाघमारे को वंदन किया.

sangit mohtsav ki mejbaarni
महोत्सव में शाम के सत्र पर सुप्रसिद्ध गायक और आकाशवाणी कलाकार प्रा. राजीव बोरकर ने भावगीत, देशभक्ति गीत, साथ ही कव्वाली गाकर प्रेक्षकों को मंत्रमुग्ध कर दिया. संगीत महाविद्यालय के पूर्व विद्यार्थी प्रा.गजानन लोटे,प्रा. राहुल भोरे, स्वाति बोंपीलवार, शिवराज शिंदे, कवित्रकुमार वानखेड़े ने गीत प्रस्तुत कर संगीत महफिल में रंग जमाया. गायन कार्यक्रम में तबला वादक प्रा.ज्ञानेश्वर बोंपीलवार, हार्मोनियम वादक प्रा. नामदेव बोंपीलवार, ढोलकी वादक प्रशांत आत्राम, आॅर्गन योगेश हातमोडे ने साथ दिया.