Published On : Mon, Aug 4th, 2014

मूल : वनजमीन के दावों पर फैसला करने की मांग


भूमिहीन किसानों ने नारेबाजी की, तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा


मूल

tahsil karyalay mool
मूल तालुका के ग्राम सुशि (दाबगांव) के अनेक भूमिहीन किसानों ने 28 जुलाई को मूल के तहसीलदार को अपनी मांगों का एक ज्ञापन सौंपा और कार्यालय के समक्ष नारेबाजी की. आजीविका के लिए वनभूमि का पट्टा देने की मांग को लेकर गांव के लोगों ने 22 दिसंबर 2010 को तहसील कार्यालय को 121 दावे सौंपे, जिस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार सुशि (दाबगांव) के भूमिहीन किसान अपनी आजीविका के लिए वन भूमि का इस्तेमाल करते रहे हैं. किसानों के 7 और 114 मिलाकर कुल 121 जमीन के संबंध में दावे ग्राम सभा में पारित करने के बाद मूल तहसील कार्यालय को दिए गए थे. मगर कोई कार्रवाई तो की ही नहीं गई, जब भी इस संबंध में जवाबतलब किया गया तो टालमटोल किया जाता रहा. मूल पंचायत समिति के पूर्व सभापति और सदस्य संजय मारकवार के नेतृत्व में दावे दाखिल करने वाले भूमिहीन किसानों ने तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा. इस अवसर पर किसानों ने नारेबाजी भी की. इस अवसर पर मारकवार के अलावा गांव की सरपंच स्वाति गुरनुले, राजेंद्र गुरनुले, पूर्व उपसभापति दशरथ वाकुडकर सहित अनेक किसान मौजूद थे.