Published On : Tue, Jul 22nd, 2014

मूल : लंबित मांगों के समर्थन में ओबीसी का 23 जुलाई को बंद


मूल

सालों से प्रलंबित अपनी मांगों की तरफ सरकार का ध्यान आकर्षित करने की दृष्टि से ओबीसी समाज संगठन की ओर से संपूर्ण महाराष्ट्र में कल 23 जुलाई को बंद रखा गया है. मूल में भी कल सब बंद रहेगा. ओबीसी संगठन ने समाज के सभी विद्यार्थियों, किसानों, खेतमजूरों और कामगारों से बंद में हिस्सा लेने की अपील की है.

जिन मांगों को लेकर बंद का आहवान किया गया है उनमें सारे पाठ्यक्रमों में शिक्षा ग्रहण कर रहे विद्यार्थियों को शत-प्रतिशत छात्रवृत्ति मंजूर करने, ओबीसी की जनगणना तत्काल करने, आय की सीमा 6 लाख तक करने, गड़चिरोली जिले के श्रेणी 3 व 4 के ओबीसी कर्मियों को दिया जा रहा 6 प्रतिशत का आरक्षण पहले की तरह 19 प्रतिशत करने, ओबीसी किसानों को वन-अधिकार पट्टे मंजूर करने और भूमिहीन ओबीसी मजदूरों को कर्मवीर दादासाहब गायकवाड़ सबलीकरण योजना की तर्ज पर 5 एकड़ तक कृषि-जमीन देने जैसी मांगें शामिल हैं.

ओबीसी संगठन प्रमुख प्रा. रामभाऊ महाडोले, गंगाधर कुनघाडकर, प्राचार्य अ. ह. वानखेड़े, पूर्व सभापति संजय मारकवार, जि. प. सदस्या संध्याताई गुरनुले, बंडू गुरनुले, सभापति राकेश रत्नावार, पूर्व नगराध्यक्ष उषाताई शेंडे, उपाध्यक्ष प्रवीण मोहुर्ले, नगरसेवक प्रभाकर भोयर, युवक बिरादरी के कवडू येनप्रेड्डीवार, सरपंच सुरेखा शेंडे, प्रा. विजय लोनबले, प्राचार्य भोयर, गजानन चौधरी आदि समाजबंधुओं ने मोर्चे में शामिल होने का आहवान किया है.

File pic

File pic