| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Mon, May 5th, 2014
    Vidarbha Today | By Nagpur Today Vidarbha Today

    भंडारा : नवेद खान हत्याकांड की गुत्थी अभी भी अनसुलझी


    अनवर की पत्नी का भी कोई पता नहीं

    भंडारा

    Murder
    भंडारा के बैरागी बाड़ा से नवेद खान हत्याकांड के तार जुड़ने के बाद शहर में तरह-तरह के कयास लगना शुरू हो गए हैं, वहीँ इस हत्याकांड में गिरफ्तार 6 आरोपियों को अदालत ने 8 मई तक के पुलिस रिमांड में भेज दिया है.

    ज्ञात हो कि विगत 30 अप्रैल को नवेद की लाश भंडारा के पास दवड़ीपार के जंगल से सड़ी-गली हालत में बरामद की गई थी. भंडारा ग्रामीण पुलिस ने मामला दर्ज कर तेजी से तफ्तीश करते हुए सभी 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था. गुनाह छुपाने के लिए गुनहगारों ने नवेद की मोटरसाइकिल और औजार वैनगंगा नदी में फेंक दिए थे. छानबीन के दौरान मोटरसाइकिल तो बरामद कर ली गई, मगर औज़ार अभी तक हाथ नहीं लगे हैं.

    ऐसे उतारा मौत के घाट
    पुलिस सूत्रों के अनुसार बैरागी बाड़ा निवासी अनवर उर्फ़ अन्नू की पत्नी होली के दरमियान घर छोड़ कर चली गई थी. उसने अपने पति को बताया था कि वह नवेद खान के साथ गई है. शक के आधार पर अन्नू ने नवेद से पूछताछ की, मगर नवेद उसकी बातों को टालता रहा. तंग आकर अन्नू ने नवेद का काम तमाम करने की ठान ली और साजिश के तहत 28 अप्रैल को पवनी रोड पर दवड़ीपार के जंगल में उसे बुलवाया. इस साजिश को अंजाम देने के लिए बैरागी बाड़ा के आसिफ अंकल, युनुस खान, शब्बीर खान, विष्णु मडावी और राखी नाम की एक महिला ने अन्नू का साथ दिया. दवड़ीपार लाने की जिम्मेदारी राखी की थी. मोटरसाइकिल से नवेद दवड़ीपार पहुंचा और राखी से बातचीत के दौरान ही अन्नू ने उसके सिर पर लोहे की छड से हमला कर दिया और एक साथ कई वार करके उसे मार-मार कर मौत के घाट उतार दिया.

    तरह-तरह के कयास
    गुनहगारों की गिरफ्तारी के बाद भी नवेद की हत्या की गुत्थी अभी अनसुलझी ही है. अन्नू की पत्नी का अभी तक कोई पता नहीं चला है. नवेद हत्याकांड को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. सूत्रों का यह भी कहना है कि गुनहगारों ने नवेद की हत्या करने से पहले ही अन्नू की बीवी की हत्या कर उसकी लाश को साकोली के जंगल में ठिकाने लगा दिया है.

    सच्चाई सामने आने में अभी देर
    इस बीच, जांच अधिकारी ने बताया कि अन्नू का कहना है कि वह अभी भी बीवी के ठिकाने का पता लगाने की कोशिश कर रहा है. गुनहगारों की जल्द गिरफ्तारी के बाद खुलासे में हो रही देरी फिलहाल यही साबित कर रही है कि नवेद हत्याकांड की सच्चाई सामने आने में अभी देर है.

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145