Published On : Thu, Jan 12th, 2017

…तो सपरिवार आंदोलन करेंगे शिक्षक

  • 21 शिक्षक व निरीक्षकों की पदोन्नति एवं 258 शिक्षकों के वेतन का मामला
  • 6 शिक्षक जून 2017 तक हो जायेंगे सेवानिवृत
  • मनपा शिक्षक संघ ने सपरिवार आंदोलन की चेतावनी दी
Teachers

File Pic

नागपुर: मनपा शिक्षक संघ के अध्यक्ष राजेश गवरे के अनुसार मनपा के उर्दू माध्यम के 11, हिंदी माध्यम के 8 शिक्षकों सहित 2 शाला निरीक्षकों के पदोन्नति वर्षों से मनपा प्रशासन ने लंबित कर रखी है। इनमें से 6 शिक्षक जून 2017 में सेवानिवृत्त हो रहे हैं। शिक्षक संघ ने सवाल पूछा है कि क्या ये छह शिक्षक प्रशासन की उपेक्षा झेलते हुए ही सेवानिवृत्त होंगे या उनके साथ भी इंसाफ होगा?

Advertisement

मनपा की पदोन्नति समिति की, आठ दिन पहले तीन दिन लगातार अहम बैठक हुई, जिसमें उक्त शिक्षकों और शाला निरीक्षकों को पदोन्नति देने के प्रस्ताव पारित किए गए। मनपा की उपेक्षापूर्ण नीति की वजह से इन शिक्षकों में से एक शिक्षक ऐसा है जो भर्ती शिक्षक पद पर हुआ था और सेवानिवृत भी उसी पद से होने जा रहा है। कल जब मनपा शिक्षक संघ मनपा प्रशासन से मिला तो प्रशासन ने मनपा चुनाव आचार संहिता का रोना रोकर पल्ला झाड़ लिया। जबकि मनपा अधिकारी रवीन्द्र कुंभारे ने शिक्षकों के संघ को आचार संहिता लागू होने के बहुत पहले ही उक्त शिक्षकों को पदोन्नति देने का आश्वासन दिया था।

Advertisement

जिले में 498 शिक्षकों के वेतन भी लटके
दूसरे मामले में मनपा प्रशासन ने शहर के 258 शिक्षकों का वेतन पिछले दो माह से रोक रखा है। संघ के अनुसार मनपा व जिला की नगरपालिकाओं के अनुदानित माध्यमिक शालाओं के शिक्षकों को शालार्थ प्रणाली से वेतन दिया जाता है। लेकिन सरकार की तरफ से वेतन अनुदान नहीं मिलने से नागपुर के 258 और जिले के 240 शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों के पिछले दो महीने का वेतन बकाया है। कुल 498 शिक्षक व शिक्षेत्तर कर्मियों को वेतन नहीं मिलने से इन शिक्षकों-शिक्षकेत्तर कर्मियों के परिजनों पर भुखमरी की नौबत है।

Advertisement

आखिरी बार इन शिक्षकों को अक्टूबर 2016 में वेतन मिला था। नवंबर महीने में वेतन नहीं मिलने पर भुक्तभोगी शिक्षकों ने शिक्षण उपसंचालक कार्यालय के सामने श्रृंखलाबद्ध अनशन भी किया था, लेकिन प्रशासन ने शिक्षकों को जल्दी वेतन देने का आश्वासन देकर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली।

शिक्षक संघ ने ‘नागपुर टुडे’ के माध्यम से मनपा प्रशासन को चेतावनी दी है कि अगर २१ जनवरी के पूर्व मनपा प्रशासन ने शिक्षकों की पदोन्नति और वेतन का मसला नहीं सुलझाया तो संघ के बैनर तले तमाम शिक्षक सपरिवार आंदोलन करेंगे।

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement