Published On : Fri, Aug 22nd, 2014

चंद्रपुर : गोंडवाना विद्यापीठ को पूर्णकालिक कुलगुरू मिलेगा


राज्य सरकार ने राष्ट्रवादी विद्यार्थी कांग्रेस के भटारकर की मांग मानी


चंद्रपुर

चार दिनों से अपनी मांगों को लेकर अनशन पर बैठे राष्ट्रवादी विद्यार्थी कांग्रेस के जिलाध्यक्ष नितिन भटारकर की मांगें राज्य सरकार ने मान ली हैं. राज्य के उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री राजेश टोपे ने गुरुवार को गोंडवाना विद्यापीठ के प्रभारी कुलसचिव डॉ. ईश्वर मोहुर्ले को अनशन मंडप में भेजकर यह सूचना दी. भटारकर गोंडवाना विद्यापीठ के विद्यार्थी विरोधी निर्णयों की भर्त्सना के साथ ही गोंडवाना विद्यापीठ में पूर्णकालिक कुलगुरू की नियुक्ति और विद्यापीठ का एक उपकेंद्र चंद्रपुर में शुरू करने की मांग को लेकर अनशन कर रहे थे.

मंत्री ने फोन पर ही दिया आश्वासन
पिछले चार दिनों से भटारकर जिलाधिकारी कार्यालय के सामने शामियाना तानकर अनशन कर रहे थे. आखिर शिक्षा मंत्री टोपे ने फोन पर ही कुलगुरू की नियुक्ति के लिए विद्वत व व्यवस्थापन परिषद के गठन का आश्वासन दिया और कहा कि इस परिषद के गठन के बाद कुलगुरू की नियुक्ति कर दी जाएगी. उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि चंद्रपुर में विद्यापीठ के उपकेंद्र का प्रस्ताव आने के बाद सरकार उस पर सकारात्मक कार्रवाई करेगी. विभिन्न फीस से संबंधित मांगें भी मंत्री महोदय ने स्वीकार कर ली. इसके बाद विधायक विद्याताई चव्हाण और निलेश राउत ने नींबू का रस पिलाकर नितिन भटारकर का अनशन खत्म करवाया.

चंद्रपुर में बने विद्यापीठ का उपकेंद्र
भटारकर का कहना था कि भले ही गोंडवाना विद्यापीठ का मुख्यालय गडचिरोली में है, मगर इससे संबद्ध कॉलेज सर्वाधिक चंद्रपुर में ही हैं, इसलिए वहां पर एक़ उपकेंद्र बनना चाहिए. इसके अलावा इंजीनियरिंग के पाठ्यक्रम का परीक्षा शुल्क कम करने, विद्यापीठ की गलती से जिन विद्यार्थियों का नुकसान हुआ है उन्हें परीक्षा शुल्क वापस करने जैसी मांगें भी शामिल थीं.


अनशन की समाप्ति के मौके पर उषाताई उराडे, मुनाज शेख, विनोद सातपुते, सुनील दहेगांवकर, राजीव कक्कड़, वामनराव झाड़े, डी. के. आरीकर, दीपक जायस्वाल, सुरेश रामगुंडे, अनुराधा जोशी, अमित उमरे, सुजीत उपरे, अमोल ठाकरे उपस्थित थे.

Representational pic

Representational pic