Published On : Fri, May 30th, 2014

गोंदिया : विद्युत कटौती को लेकर भाजपा ने किया 2 घंटे तक विद्युत कार्यालय का घेराव


कार्यालय पर ताला ठोकने की चेतावनी,


गोंदिया

Mahavitaran andolan 1
लोकसभा चुनाव परिणाम के पश्चात शहर तथा ग्रामीण इलाके में विद्युती क पनी द्वारा की जा रही निरंतर कटौती से नागरिक त्रस्त है. जिसको मुद्देजनर रखते हुये भाजपा के जिलाध्यक्ष विनोद अग्रवाल के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी द्वारा रामनगर में स्थित विद्युत महावितरण कार्यालय का घेराव कर विद्युत कंपनी की लचर कार्यप्रणाली के खिलाफ भाजपा के कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी कर अपना आक्रोश व्यक्त किया.

आंदोलन के पूर्व आज सुबह 11.30 बजे कार्यकर्ताओं द्वारा विशाल बाईक रैली निकालकर मोर्चा रामनगर के विद्युत महावितरण कार्यालय पहुंचा जहां विद्युत महावितरण द्वारा की जा रही बिजली कटौती को लेकर कार्यकर्ताओं ने उक्त अधिकारीयों का करीब 2 घंटे तक घेराव कर उनके खिलाफ जमकर नारेबाजी की. उक्त समस्यां का जल्द ही निवारण न किये जाने पर कार्यालय पर ताला ठोकने की चेतावनी भाजपा के पदाधिकारियों तथा कार्यकर्ताओं ने संबंधित अधिकारीयों को दे दी है. जब मोर्चा रामनगर के महावितरण कार्यालय पर पहुंचा तो वहां पर कोई भी वरिष्ठ अधिकारी मौजुद नही था. जिससे भाजपा के कार्यकर्ताओं पर और अधिक आक्रोश फुट पड़ा और जमकर नारेबाजी की जाने लगी.
Mahavitaran andolan
कार्यकारी अभियंता मेश्राम के आने के बाद हो रही बिजली कटौती के संदर्भ को लेकर भाजपा के पदाधिकारीयों ने उनसे चर्चा की. फोन पर शिकायत किये जाने पर वहां पर उपस्थित अधिकारी फोन नही उठाते अगर फोन उठा भी लेते है तो जनता से बेखुदा तरीके का वर्तव कर पेश आते है उनपर भी कार्रवाई करने की मांग भाजपा ने की है. निरंतर हो रही बिजली कटौती से नल योजना पुरी तरह से प्रभावित हुई है. जिससे नागरिकों को पानी के लिये दर-दर की ठोकरे खाने पर मजबुर होना पड़ रहा है. बिजली चोरी करनेवाले समान्य जनता से लेकर बड़े लोगो पर कार्रवाई करने की मांग विद्युत विभाग से की गई. विद्युत विभाग द्वारा किसानों के काटे गये कनेक्षन पुन: जोडऩे की मांग आंदोलन के दौरान की गई. कार्यकारी अभियंता मेश्राम द्वारा बिजली कटौती बंद के आश्वासन के बाद भाजपा ने अपना आंदोलन वापस लिया. मांगो को जल्द ही पुरा न किये जाने पर कार्यालय पर ताला ठोकने की चेतावनी भी भाजपा के पदाधिकारीयों तथा कार्यकर्ताओं संबंधित अधिकारीयों को दे दी है.