Published On : Mon, Apr 28th, 2014

गोंदिया : ट्रेनों में धडल्ले से बेचे जा रहे गुटखे

Advertisement


गोंदिया 

रेलवे पुलिस की निष्क्रियता से रेल गाडियों में बिक्री जोरों पर

राज्य सरकार ने 20 जुलाई 2012 को सार्वजनिक स्थानों पर गुटखा बिक्री पर पाबंदी लगा दी है. साथ ही वर्षों से रेलवे प्रशासन की ओर से रेलवे परिसर में तंबाकूयुक्त पदार्थ बेचने पर प्रतिबंध लगाया है, लेकिन रेलवे प्रशासन इसे सक्रियता से लागू करने में असफल साबित हुआ है. इसके चलते गाडियों में अभी भी यात्रियों को गुटखा उपलब्ध हो रहा है. रेलवे पुलिस की निष्क्रियता के कारण यह अवैध धंधों को बढावा मिल रहा है.

Advertisement

ट्रेनों में खाद्य पदार्थ बेचने के लिएरेलवे प्रशासन से अनुमति लेना नितांत जरूरी होता है. इसके उपरांत ही हॉकर रेलवे परिसर में खाद्य पदार्थ बेच सकते हैं, लेकिन बिना अनुमति के निडरतापूर्वक धड.ल्ले से खाद्य पदार्थ की बिक्री हो रही है. खाद्य पदाथरें के बिक्री के नाम पर बडे. पैमाने पर गुटखा तथा शराब की बिक्री हो रही है.

बताया गया कि विक्रेता जेब में गुटखा पाउच के साथ शराब के पव्वे भी रखते हैं. जो व्यक्ति इसके आदी हो चुके हैं उन यात्रियों को मालूम होता है कि विक्रेता के पास गुटखा एवं शराब भी प्राप्त होती है. विक्रेता द्वारा उन्हीं यात्रियों को गुटखा पाउच तथा शराब के पव्वे दिए जाते हैं. रेलवे पुलिस और सुरक्षा बल के जवान को इसकी जानकारी होने के बावजूद बिना लाइसेंस धारक खाद्य पदाथरें की बिक्री कर रहे हैं. नतीजतन ट्रेनों में चोरी की वारदातें बढ गई है.

सूत्रों के अनुसार विक्रेताओं से पुलिस जवान हफ्ता वसूली करते हैं. इसकी वजह से बिना लाइसेंस धारक बेधड.क गुटखा पाउच बेच रहे हैं जो कि पूरी तरह से रेलवे के नियम को ताक पर रख यह धंधा किया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक आज तक रेलवे प्रशासन की ओर से अवैध तरीके से धंधे करने वाले पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है. यदि कोई यात्री इस संबंध में रेलवे पुलिस से शिकायत करता भी है तो इस ओर गंभीरता से ध्यान नहीं दिए जाने का आरोप यात्रियों ने लगाया है.

Representational Pic

Representational Pic

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement