Published On : Sat, Apr 19th, 2014

कोराडी: महाजेनको अधिकारियों का त्रस्त महिलाओं ने किया घेराव


कोराडी (नागपुर).

कोराडी महाजेनको की करतूतों का खामियाजा खैरी ग्राम के नागरिकों को बड़ी बुरी तरह भुगतना पड रहा है. भारी गर्मी में पानी के लिए दूर-दूर तक महिलाओं को भटकना पड रहा है. बोरिंग का पानी दूषित हो चुका है. लोग बीमार पड रहे है. लेकिन महाजेनकों द्वारा मंजूर की गई जलापूर्ति योजना को सालों बीत गए. आज तक उसे पूर्ण नहीं किया गया है. इस समस्या पर क्षुब्ध सैकडों महिलाओं ने शुक्रवार को विधायक बावनकुले के नेतृत्व में कोराडी स्थित महाजेनको कार्यालय पहुंचकर जिम्मेदार अधिकारियों का घेराव कर डाला. विधायक बावनकुले ने ज्ञापन सौंपा व अविलंब जलापूर्ति योजना का कार्य प्रारंभ करने तथा तब तक टैंकर से जलापूर्ति करने की मांग की.
इस पर अधिकारियों ने हामी भरी और लिखित स्वरूप में देने के पश्‍चात महिलाए शांत हुई. लिखित ज्ञापन में बताया गया है कि खैरी गांव पांच हजार से अधिक आबादी का कामठी तहसील का अभागा गांव है. यहां जिला परिषद के नाले पर बनायी गयी जलापूर्ति द्वारा आपूर्ति की जाती थी. मगर कोराडी बिजली घर की राख का पानी इसी नाले से बहाया जाने से पानी के सभी स्त्रोत दूषित हो गए है. नागरिकों के स्वास्थ्य पर गंभीर दुष्परिणाम हो रहे हैं यह पुरानी योजना वर्तमान में पूरी तरह बंद पडी है
वर्ष 2010 में महाजेनको द्वारा सामाजिक दायित्व के तहत 70 लाख रुपयों की लागत से नयी जलापूर्ति योजना मंजूर की गयी थी लेकिन उस योजना के प्रति महाजेनको के अधिकारियों ने लापरवाही बरतने से वह योजना आज तक धूल खाते पड़ी  रही. खैरी ग्राम की जनता को इसका खामियाजा भुगतना पड रहा है और वे पानी के लिए दर-दर भटक रहे हैं.
इस भीषण समस्या झेलते झेलते यहां की महिलाएं इतनी क्षुब्ध हो उठी कि सैकड़ो की तादाद में महिलाओं कोराडी महाजेनको कार्यालय विधायक बावनकुले के नेतृत्व में पहुंचकर जिम्मेदार अधिकारियों का घेराव किया. इस दौरान विधायक बावनकुले ने महाजेनकों के अधिकारियों को आडे हाथों लिया एवं ज्ञापन सौंप कर कहा कि मंजूर योजना महाराष्ट्र जीवन प्राधीकरण को हस्तांतरित ना करे बल्कि स्वयं महाजेनको इसे पूर्ण करें. एमजेपी को 17 लाख रुपये कार्यालयीन खर्च देने की बजाय 7 दिन के भीतर इस कार्य की निविदा निकाले. 30 जून से पहले काम प्रारंभ करे. यह मांग महिलाओं की ओर से विधायक ने की. इस दौरान कुछ समय तनाव की स्थिति को भाप पुलिस एवं सुरक्षा यंत्रणा मंगायी गयी. स्थिति की नजाकत देख अधिकारियों ने 30 जून तक जलापूर्ति योजना के कार्य की शुरुआत करने तथा उस समय तक टैंकर से जलापूर्ति करने की लिखित शर्त तथा एक ट्यूबवेल भी बना देने की शर्त मंजूर की एवं लिखित स्वरुप में दिया. पश्‍चात ही माहौल शांत हुआ. इस समय प्रमुख रुप से महादुला नप की अध्यक्ष कांचन अशोक कुथे, खैरी की सरपंच कविता आदमने, वीनाताई रघटाटे,सरिता मानकर देवकाबाई झोडापे तथा महाजेनको के कोराडी परियोजना के मुख्य अभियंता पंकज सपाटे, स्थापत्य मुख्य श्री नाफडे, उपमुख्य अभियंता खोब्रागडे एवं कल्याण अधिकारी मुकेश मेश्राम, कार्यकारी अभियंता श्री कोहले आदि समेत खैरी गांव की सैकडो महिलाएं उपस्थित थीं.

Advertisement

Mahagenco

Advertisement

 

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement