Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Wed, Aug 13th, 2014
    Vidarbha Today | By Nagpur Today Vidarbha Today

    कोंढाली : बवाल का केंद्र बना अवैध निर्माण आखिर ढहाया गया


    कोंढाली में शीतगृह के खिलाफ था माहौल


    (खालिद शेख)

    कोंढाली

    Avaidh nirmankary (Kondhali)
    यहां से कोई दो किलोमीटर दूर स्थित सोनेगांव क्षेत्र के 6000 वर्ग फुट में अवैध रूप से बनाए जा रहे शीतगृह को कल 12 अगस्त को तहसीलदार के नेतृत्व में धराशाई कर दिया गया. इस मौके पर व्यापक पुलिस बंदोबस्त किया गया था. इस निर्माण कार्य का इलाके के सामाजिक-धार्मिक संगठनों ने भारी विरोध किया था.

    5 अगस्त को ही हो गया था गिराने का आदेश
    प्राप्त जानकारी के अनुसार सोनेगांव के सर्वे क्र. 78 और 79 में जारी शीतगृह के निर्माण पर कोंढाली ग्राम पंचायत ने आपत्ति दर्ज की थी. निर्माण कार्य की जांच करने पर कोंढाली के पटवारी ने उसे अवैध बताया था. इस निर्माण के विरोध में अनेक धार्मिक, सामाजिक और राजनीतिक संगठनों के आवाज उठाने के बाद काटोल के उपविभागीय अधिकारी अविनाश कातडे ने 5 अगस्त को अवैध निर्माण कार्य को गिराने का आदेश दिया था. 12 अगस्त को तहसीलदार सचिन गोसावी, नायब तहसीलदार रमेश कोलपे, पुलिस निरीक्षक सुरेश भोयर और कोंढाली ग्राम पंचायत के सचिव राठोड की मौजूदगी में अवैध निर्माण को गिरा दिया गया.

    Avaidh nirmankary (Kondhali) 2
    बंद रहा कोंढाली

    इस अवैध निर्माण को लेकर पिछले कुछ दिनों से गांव में एक अलग किस्म का माहौल बनाया जा रहा था. कुछ संगठनों ने पर्चे बंटवाकर अफवाह फैलाई थी कि शीतगृह में मांस प्रक्रिया केंद्र बनाया जाएगा. वहां गाय का कसाईघर बनाने की अफवाह भी चली. 8 अगस्त को कोंढाली बंद रखा गया. मांग थी-मांस प्रक्रिया केंद्र न बनाया जाए और निर्माण ढहा दिया जाए. उसी दिन देशमुख लेआउट में एक सभा ली गई. अवैध निर्माण गिराने की मांग की गई. सभा में शिवसेना सांसद कृपाल तुमाने, नागपुर जिला शिवसेना प्रमुख राजू हरने भी मौजूद थे. आखिर 12 अगस्त को इस अवैध निर्माण को गिरा दिया गया.

    निर्माण से पहले अनुमति जरूर लें : गोसावी
    इस बीच, काटोल के तहसीलदार सचिन गोसावी ने नागरिकों से कहा है कि ग्रामीण किसी भी निर्माण से पहले आवश्यक अनुमति जरूर लें, अन्यथा उसे अवैध मानकर गिरा दिया जाएगा.


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145