Published On : Sat, Jul 19th, 2014

कामठी : पैसा लौटाने से मना किया तो पत्थर से कुचलकर मार डाला


कामठी के सूनसान स्थान पर की हत्या, दो गिरफ्तार


कामठी

Kamthi crime
दिए गए पैसे लौटाने से मना करने पर दो लोगों ने मिलकर एक व्यक्ति की पत्थरों से कुचलकर हत्या कर दी. हत्या कामठी के सूनसान इलाके में की गई थी. पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है.

चंद्रहास लेआउट में मिली थी लाश
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस को कामठी के चंद्रहास लेआउट में एक अज्ञात व्यक्ति की लाश पड़े होने की सूचना मिली थी. जांच के बाद लाश मांगली गोसाई टोली के रत्नाजी सत्यनारायण दंडामुली की निकली. पुलिस ने इस मामले में रूपेश करनवार (38) और मुकेश मेश्राम (27) को गिरफ्तार किया है. रुपेश ने पुलिस को बताया कि उसने करीब ढाई महीना पहले रत्नाजी को बकरा खरीदने के लिए 20 हजार रुपए दिए थे. मगर रत्नाजी ने न तो बकरा खरीदकर दिया और न ही पैसे लौटाए. रुपेश ने जब उससे अपना पैसा मांगा तो उसने मना कर दिया और कहा, तेरे से जो बनता है वह कर ले.

पहले शराब पिलाई, फिर मार डाला
इससे गुस्साए रुपेश ने मुकेश की सहायता से रत्नाजी की हत्या की योजना बनाई. दोनों 5 जुलाई 2014 को उसे एक बार में लेकर गए, जहां उसे खूब शराब पिलाई गई. फिर दोनों उसे मोटरसाइकिल पर भोयर कॉलेज के पीछे चंद्रहास लेआउट के सूनसान इलाके में लेकर गए. वहां रुपेश ने पहले उसके सिर पर पत्थर से जोरदार प्रहार किया. फिर दोनों ने पत्थरों से कुचलकर उसकी हत्या कर दी.

24 जुलाई तक पुलिस हिरासत
17 जुलाई को गोपनीय सूचना मिलने के बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों को बस स्टैंड के पास एक चाय की टपरी से चाय पीते हुए पकड़ लिया. दोनों के खिलाफ भादंवि की धारा 302, 201 के तहत मामला दर्ज किया गया है. अदालत ने दोनों को 24 जुलाई तक की पुलिस हिरासत में भेज दिया है. पुलिस आगे की जांच कर रही है.

मोबाइल नंबर से हो सकी पहचान
इस मामले में मृतक के मोबाइल नंबर से उसकी पहचान हो सकी. मृतक के पैंट की जेब से पुलिस को एक रेल टिकट मिला था, जिस पर एक मोबाइल क्रमांक लिखा था. पुलिस इसी मोबाइल क्रमांक वाले व्यक्ति तक पहुंची तो वह धनी निमखेड़ा निवासी जयकुमार पाटिल निकला. पुलिस ने जयकुमार पाटिल को लाश दिखाई तो उसने रत्नाजी को पहचान लिया.