Published On : Mon, Aug 18th, 2014

उमरखेड़ : आदिवासियों का पारम्परिक वेशभूषा में मोर्चा 20 को


आरक्षण बचाने की मांग, 10 हजार से अधिक लोग हिस्सा लेंगे


उमरखेड़

आदिवासी समुदाय के लोग अपना आरक्षण बचाने की मांग को लेकर 20 अगस्त को स्थानीय कृषि उत्पन्न बाजार समिति के प्रांगण से मोर्चा निकालेंगे. मोर्चे में 10 हजार से अधिक आदिवासी लोग अपनी पारम्परिक वेशभूषा में उपस्थित रहेंगे.

प्रेस के लिए जारी एक पर्चे में कहा गया है कि धनगर समुदाय ने आरक्षण की मांग के लिए जो रास्ता चुना है वह गलत है. संविधान की पांचवी और छठी सूची के अनुच्छेद 244 (1) व 342 के प्रावधानों को नजरअंदाज कर यह गलत रास्ते से खड़ा किया गया आंदोलन है.

पर्चे में समाज के लोगों का आवाहन किया गया है कि 20 अगस्त को सब लोग अपनी पारम्परिक वेशभूषा में उपस्थित रहें. मोर्चे में शामिल महिला-पुरुष वाद्य यंत्र लेकर चलेंगे. मोर्चे का नेतृत्व पूर्व विधायक उत्तमराव इंगले, आदिवासी विकास परिषद के जिला उपाध्यक्ष रामकृष्ण चौधरी, प्रकाश धनजकर, महागांव पंचायत समिति के सभापति नागोराव ढोले, आ. यू. क. संघ हिंगोली के जिलाध्यक्ष डॉ. सतीश पाचपुते, शेषराव इंगले, श्रीराम अंभोरे, वसंत भुसेवाड और दुलाजी पोटे करेंगे.

file pic

file pic