Published On : Mon, May 19th, 2014

उमरखेड : उमरखेड में तनावपूर्ण शांति, तोड़फोड़ और आगजनी जारी


धार्मिक स्थल की अवमानना के बाद तनाव, शहर बना पुलिस छावनी 

दुकानें और वाहन बने निशाना, 20 लाख से अधिक का नुकसान

Advertisement

उमरखेड

Burn Car
उमरखेड में शनिवार को एक धार्मिक स्थल की अवमानना की घटना के बाद अब शहर में तनावपूर्ण शांति है. भारी पुलिस बंदोदस्त से शहर पुलिस छावनी बन गया है. बावजूद इसके तोड़फोड़, पथराव और आगजनी की घटनाओं में कमी नहीं आई है. कल रात जैन मंदिर के सामने खड़ी एक कार जला दी गई. कार शंकर अमरचंद राठी की थी, जो नांदेड जिले के मुदखेड के रहनेवाले हैं और यहां रिश्तेदार के यहां आए हुए थे. घटना के बाद हुई तोड़फोड़ और पथराव में कई वाहनों और दुकानों को नुकसान पहुंचा है. एक अनुमान के अनुसार इन घटनाओं में 20 लाख से अधिक का नुकसान हुआ है. इस बीच, अज्ञात समाजकंटक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है.

Advertisement

दुकानदार जख्मी
प्राप्त जानकारी के अनुसार 17 मई को एक धार्मिक स्थल में तोड़फोड़ और अवमानना की खबर शहर में जंगल की आग की तरह फ़ैल गई और देखते ही देखते दुकानें बंद हो गईं. 40 से 50 लोगों का समूह सड़कों पर उतर आया और सर्राफा बाजार स्थित संजय कुलथे की साईं ज्वेलर्स से करीब 9 लाख के सोने-चांदी के जेवरात लूट लिए गए. दुकान में पथराव कर तोड़फोड़ कर दी गई. ढाणकी रोड स्थित विजय काले की दुकान सहित हुतात्मा चौक स्थित अजीम उल्ला खान की चूड़ियों की दुकान में तोड़फोड़ की गई. पथराव में विजय काले जख्मी हो गए. अलावा इसके कई लोगों की मोटरसाइकलों को नुकसान पहुंचाया गया. रमेश तेला की दुकान के सामने खड़े टेम्पो पर पथराव कर उसके कांच फोड़ दिए गए. दो कारों पर पथराव कर उसमें लगे टेप पर हाथ साफ कर दिया गया.

Advertisement

भारी पुलिस बल तैनात
पुलिस ने सर्राफा बाज़ार परिसर में उत्पात मचा रहे 40-50 लोगों और हुतात्मा चौक परिसर में पथराव और तोड़फोड़ में जुटे 15-20 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. परिस्थितियों पर नियंत्रण के लिए सहायक जिला पुलिस अधीक्षक जानकीराम डाखोरे, उपविभागीय पुलिस अधिकारी डॉ. अश्विनी पाठक, दारव्हा की डीवायएसपी कल्पना भराड़े, पांढरकवडा के डीवायएसपी एस. बी. महाजन, गृह डीवायएसपी विजय सोनवणे और स्थानीय थानेदार भारत कांबले सहित अकोला, वाशिम, हिंगोली, अचलपुर, पुसद, महागांव, बिटरगांव, दराटी से अतिरिक्त पुलिस बल बुलाया गया. इसके साथ ही दंगा नियंत्रण पथक भी शहर में डटा हुआ है. फ़िलहाल स्थिति नियंत्रण में बताई जाती है.

आरोपी पर मकोका लगे

इस बीच, शिवसेना ने जिला पुलिस अधीक्षक से शहर में कॉम्बिंग ऑपरेशन चलाने की मांग है. उधर, मुस्लिम समुदाय ने भी एक ज्ञापन नायब तहसीलदार राजेश चव्हाण को सौंपा है. उन्होंने मांग की है कि दोषी व्यक्ति को तुरंत गिरफ्तार किया जाए और आरोपी के खिलाफ मकोका के तहत कार्रवाई की जाए. समुदाय ने मामले की उच्चस्तरीय जांच की भी मांग की है. साथ ही आरोपी के खिलाफ मामला द्रुत गति न्यायालय में चलाने की भी मांग की गई है.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement