Published On : Fri, Jun 13th, 2014

अपने ही अखबार की प्रतियां जलाईं लोकमत संवाददाता ने; खापरखेड़ा थाने में मामला दर्ज

Pic-13नागपुर टुडे

पुरानी कहावत है कि चाय से ज्यादा केतली गर्म है,ऐसा ही कुछ शहर के प्रतिष्ठित समाचारपत्र समूह लोकमत के साथ गठित हुई,हुआ यूँ क़ि लोकमत समाचार के संवाददाता के कारनामे  लोकमत समाचार में प्रकाशित हुए थे,इससे आगबबूला होकर संवाददाता ने लोकमत समाचार सह दैनिक भास्कर की प्रतिया सार्वजानिक रूप से जलाकर अपनी भड़ास निकली,दोनों ही मामले पर खापरखेड़ा थाने में मामला दर्ज हुआ,समाचार लिखे जाने तक मामला दर्ज होते ही संवादाता फरार होने की जानकारी जाँच अधिकारी ने दी.

खापरखेड़ा पुलिस सूत्रों की माने तो ७ जून २०१४ को दैनिक भास्कर,लोकमत मराठी,लोकमत समाचार में दहेगांव रंगारी का एक विवादस्पद समाचार प्रकाशित हुआ कि एक बिल्डर के हितार्थ एक मकान से सुबह-सुबह लोगो को निकालकर बुलडोज़र से मकान ढहा दिया गया.सामूहिक शिकायत पर उक्त कृतकर्ता लोकमत समाचार का संवादाता सुरेश वानखेड़े सह ५-६ लोगो पर धारा १४३,१४७,१४८,४४७,४४८,४५२,४२७,३२३,५०६ भादवि के तहत सुरेश वानखेड़े,गुणवंत माकडे,मधुकर गोंडने,सतीश पटमासे,सूरज चौधरी,दिनेश डोमके पर मामला दर्ज किया।सभी आरोपी नशे में धूत थे, फिर उन्हें जमानत पर रिहा किया गया ,यह खबर उक्त समाचारपत्र में पड़ते ही ७ जून को सुरेश वानखेड़े सह अन्य सहयोगी आरोपियों ने दैनिक भास्कर सह लोकमत समाचार की प्रतिया जलाकर अपनी भड़ास निकली। इस घटना की भी शिकायत खापड़खेड़ा थाने में की गई और थाना प्रशासन ने धारा १३५ के तहत लोकमत संवादाता सुरेश वानखेड़े सह अन्य के विरुद्ध मामला दर्ज किया ,जिसमे सुरेश वानखेड़े समाचार लिखे जाने तक फरार बताये गए है.

मामले की जाँच पुलिस सह निरीक्षक कोटरे,उप निरीक्षक सविता देशमुख कर रहे है.

उल्लेखनीय यह है कि उक्त मकान मोहन फूलचंद जैन की होने के कारण आजतक जप्त नहीं की गई है.