| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Sat, Dec 26th, 2020

    जर्जर ईमारत WCL की बदहाली बयां कर रही

    RISK लेकर उत्पादन कर रहे और जीवन यापन भी कर रहे

    नागपुर/वलनी :पुरानी कहावत हैं कोयले की दलाली में हाथ भी काले हो जाते हैं तो WCL में ऐसी ही नई कहावत के रूप में कही जा रही कि जान-जोखिम में डालकर WCL का उत्पादन बढ़ाने वालों को जीवन यापन भी जोखिम भरे ईमारत/मकान में रहना पड़ता हैं.यह विकराल समस्या खदान क्षेत्र के अधिकारी से लेकर CMD तक को पता होने के बावजूद आजतक कोई ठोस उपाययोजना नहीं किया जाना WCL के आला अधिकारियों के कार्य प्रणाली पर उंगलियां उठा रही.

    WCL की CGM NAGPUR AREA अंतर्गत WALNI MINES हैं.यह खदान वर्षो पहले बंद हो चुकी।इस खदान के कर्मी और अधिकारी आसपास के अन्य खदानों में स्थानांतरित कर दिए गए.इस क्षेत्र में एक WCL का अस्पताल हैं.

    जब खदान बंद तो कर्मी/अधिकारी के लिए इस क्षेत्र पर खर्च हो रही मुलभुत सुविधा भी बंद कर जगह खाली करवा देनी चाहिए थी.इससे खर्च का बचत होता।लेकिन ऐसा न कर वलनी खदान के स्थानांतरित कर्मी/अधिकारियों को इसी वलनी खदान में रहने दिया गया,इनके लिए बिजली/गैस/स्कूल/पानी/बस आदि सुविधा कायम आजतक रखी गई

    इस कॉलनी में बस गए कर्मी/अधिकारी और उनके करीबी रिश्तेदारों ने आसपास के जगहों पर कब्ज़ा करना शुरू कर दिया।कुछ ने तो खुली जगह पर माकन/दुकान बनाकर एकाधिकार स्थापित कर लिया।कुछ को आवंटित मकान को किराए पर लगा दिए,कुछ के पास एक के बजाय २-२ माकन और अतिरिक्त जगह भी हैं.

    आप चूँकि WCL पिछले कुछ वर्षों से मकानों का मरम्मत नहीं किया गया,जर्जर होती ईमारत पर असुरक्षित ईमारत लिख दिया गया और तो और सभी को अधिकृत सूचना भी दे दी गई,इसके बावजूद सैकड़ों परिवार वहीं उसी हाल में जीवन यापन कर रहे.

    दरअसल इनकी गलती इतनी हैं कि इन्हें यहाँ WCL के मार्फ़त काफी सुविधा मिल रही,इस सुविधा के आदि होने के कारण वे कॉलोनी नहीं छोड़ रहे.जबकि WCL प्रशासन ने इन्हें सख्ती से मकान और जगह खाली करवाना चाहिए,जिस पर उनका अधिकार हैं.

    जब भविष्य में कोई अनहोनी घटना घाट गई और कोई जान-माल का नुकसान हो गया तो सारा का सारा इल्जाम WCL पर ही मढ़ा जाएगा तब WCL को POLITICAL दबाव में हर्जाना भी भरपूर मात्रा में देना पड़ेगा।

    नए CMD से MODI FOUNDATION ने आव्हान किया हैं कि वे WCL का कार्यभार सँभालने के तुरंत बाद खदानों का औचक दौरा कर ठोस उपाययोजना करें।क्यूंकि WCL की असल संपत्ति उनके खदान कर्मी जो उत्पादन में सहयोग करते हैं और WCL को नुकसान में लाने का काम कामचोर कर्मी कर रहे या फिर अधिकारियों के इर्द-गिर्द रहकर अपनी रोटी सेक रहे.

    Trending In Nagpur
    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145