Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Wed, Dec 30th, 2020
    nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

    गोंदियाः रेती के धंधे में खूनी रंजिश, हॉफ मर्डर

    गोंदिया। रेती की आवक कम और डिमांड अधिक होने की वजह से रेती के दाम आसमान छू रहे है तथा यह धंधा मुनाफे का सौदा बन चुका है।

    इस कारोबार में कई दबंग प्रवृत्ति के लोग भी हाथ आजमा रहे है जो रात के वक्त बिना निलाम हुए रेतीघाटों से अवैध उत्खन्न कर चुरायी गई रेती की तस्करी बड़े पैमाने पर खुले बाजार में करते हुए चांदी काट रहे है।

    व्यापार में प्रतिस्पर्धा होना आम बात है लेकिन एक ही धंधे की व्यवसायिक प्रतिस्पर्धा खूनी रंजिश का रूप धारण कर लेगी, यह तो किसी ने सोचा भी न था।

    कार पर पथराव, युवक पर हथियारों से हमला

    वाक्या 28 दिसंबर रात 11.30 बजे जिले के अर्जुनी मोरगांव थाना अंतर्गत आने वाले ग्राम कन्हड़गांव से बुधेवाड़ा जाने वाले मार्ग पर उस वक्त घटित हुआ जब रेती का धंधा करने वाले ग्राम पिंपड़गांव (त. लाखांदूर) निवासी आशिष परशुरामकर (26) यह अपनी कार क्र एमएच 02/सी.वी. 4629 में सवार होकर पटवारी द्वारा पकड़ी गई रेत गाड़ी की जानकारी लेने के संदर्भ में घूम रहा था

    इसी दौरान 7 से 8 युवक सिल्वर रंग की सूमो में सवार होकर पहुंचे और उन्होंने आशिष की गाड़ी पर पथराव करना शुरू कर दिया जिससे कार के कांच टूट गए। आरोपियों ने आशिष को कार से खींचकर बाहर निकाला और उसके सिर तथा अन्य हिस्सों में लाठी, पेचकस, रॉड आदि से हमला किया तथा गाड़ी व मोबाइल की तोड़फोड़ करते फरार हो गए।

    गंभीर जख्मी आशिष को ब्रम्हपुरी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसके सिर पर 12 टांके लगे है और पेट व शरीर पर भी 6-7 घांव है। इस घटना ने अर्जुनी मोरगांव तहसील में हड़कंप मचा दिया।

    पुलिस ने जख्मी फिर्यादी आशिष परशुरामकर की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ हत्या के प्रयास धारा 307, 143, 148, 149, 427 के तहत जुर्म दर्ज कर फरार आरोपियों की तलाश शुरू की।

    पुलिस टीम की नागपुर में दबिश, वाड़ी इलाके से 5 धरे गए
    मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक विश्‍व पानसरे तथा उपविभागीय पुलिस अधिकारी जालिंदर नालकुल के मार्गदर्शन में लोकल क्राइम ब्रांच की टीम तैयार कर आरोपियों की खोजबीन शुरू की गई, इस दौरान साइबर सेल की भी मदद ली गई जिसके बाद पुलिस ने भंडारा जिले की लाखांदूर तहसील के सांईनाथ लेआऊट निवासी 2 सगे भाई- आरोपी विरेंद्र हटवार (28) तथा विक्रम हटवार (24) इन्हें डिटेन कर कड़ी पूछताछ शुरू की, जिसपर विरेंद्र ने बताया कि, हमले में शामिल अन्य साथीदार नागपुर के निवासी है, इस सूचना के आधार पर स्थानिक अपराध शाखा दल के निरीक्षक बबन अव्हाड़, पोउपनि तेजेंद्र मेश्राम के नेतृत्व में एक टीम आरोपी विरेंद्र को लेकर नागपुर रवाना हुई तथा नागपुर के वाड़ी क्षेत्र में पुलिस दल ने दबिश देते हुए आरोपी मनीष इंदुरकर (23), सिद्धार्थ घरडे (29 दोनों रहवासी प्रतापती नगर नागपुर), दानिश शेख (25 रा. भांडेवाड़ी नागपुर), निखिल शेंडे (21 रा. वर्धमान चौक नागपुर), सुमित वैरागड़े (19 रा. मिनीमाता नगर नागपुर) की गिरफ्तारी आज 30 दिसंबर के सुबह करते हुए पुलिस इन्हें अर्जुनी मोरगांव थाना कोतवाली लेकर पहुंची जहां आज आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

    मुखबिरी का था संदेह, दिया वारदात को अंजाम

    पुलिस के मुताबिक प्राणघातक हमले की वजह आपसी व्यवसायिक प्रतिस्पर्धा है, जख्मी और आरोपी सभी रेती का व्यवसाय करते है, आरोपियों को इस बात का संदेह था कि, उनके जो वाहन पकड़े जा रहे है, उनकी जानकारी जख्मी युवक , राजस्व विभाग अधिकारियों को दे रहा है जिसकी खुन्नस के चलते यह हमला किया गया। बहरहाल जख्मी युवक आशिष की स्थिति खतरे से बाहर बतायी जाती है तथा उसका उपचार जारी है।

    उक्त मामले की गुत्थी को सुलझाने में एलसीबी के सहायक उपनि. कापगते, पो.ह. राजु मिश्रा, पो.ना. मेहर, लुटे तथा पोसि राऊत, आसुटकर, चालक पो.ह. पिल्लारे ने मदद की।

    प्रकरण के आगे की जांच अर्जुनी मोरगांव थाना प्रभारी महादेव तोंदले के मार्गदर्शन में सहायक पोनि प्रशांत भुते कर रहे है।

    रवि आर्य

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145