| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Sat, Dec 19th, 2020
    nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

    ‘एचएएम’ प्रकल्प का निकल रहा दम

    हिंगणा-हिंगणी मार्ग के ठेकेदार KCC तो नागभीड़ – सिंदवाही मार्ग के ठेकेदार DC GURBAKSHANI कर रहे निम्न दर्जे का काम,सड़क निर्माण क्षेत्र के विशेषज्ञ टीम के साथ NAGPUR TODAY प्रतिनिधि ने किया प्रत्यक्ष मुआयना

    नागपुर: HAM (HYBRID ANNUITY MODEL ) के तहत हिंगणा-हिंगणी मार्ग का उच्च गुणवत्ता के साथ चौमुखी विकास का ठेका KCC ( Khalatkar Construction Company ) तो दूसरी ओर नागभीड़ – सिंदवाही मार्ग का ठेका विवादास्पद कंपनी DC GURBAKSHANI को दिया गया या फिर दिलवाया गया.दोनों ही कंपनी निम्न,घटिया दर्जे का काम कर रही,इसके लिए सम्बंधित जिला खनन विभाग को वश में कर खनिज संपदा का दोहन भी शुरू हैं.वर्त्तमान में दोनों सड़क आवाजाही करने वालों के लिए धोकादायक साबित हो रहा,इसके बावजूद सम्बंधित विभाग के अधीक्षक अभियंता उक्त दोनों कंपनी को चरणबद्ध भुगतान भी करते रहने की जानकारी मिली हैं.उक्त दोनों सड़कों के निर्माण व गुणवत्ता की जाँच स्वतंत्र जाँच एजेंसी से करवाने की मांग ‘एमओडीआई फाउंडेशन’ ने की.समय रहते सम्बंधित विभाग के अधीक्षक अभियंता ने गंभीरता नहीं दिखाई तो ‘एमओडीआई फाउंडेशन’ जनहित में न्यायालय की शरण में चले जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होंगी।
    विगत दिनों PWD की नागपुर और चंद्रपुर कार्यालय के सूत्रों द्वारा उक्त प्रकल्प में गड़बड़ी के बावजूद विभाग के आला अधिकारियों का दोनों ठेकेदारों को संरक्षण देने की जानकारी मिली।इनकी जुगलबंदी से की जा रही गड़बड़ी इसलिए प्रकाश में नहीं आ रही क्यूंकि दोनों मार्ग सुनसान/सन्नाटा और जंगल क्षेत्र गुजर रहा हैं.इन मार्गों पर आवाजाही करने वाले सिर्फ कोसते-कोसते गुजर रहे.दोनों ठेकेदार के निर्माणक्षेत्र सड़कों के इर्द-गिर्द रहने वाले ग्रामवासियों को घटिया निर्माणकार्य से होने वाली सांस/स्वास्थ्य का नुकसान सहन करना पड़ रहा हैं.इसके विरोधाभास को दबा दिया जा रहा.
    उक्त जानकारी मिलते ही सड़क निर्माण क्षेत्र के तकनीकी विशेषज्ञों के दल के साथ NAGPUR TODAY की टीम ने दोनों सड़कों का पूर्ण व सूक्षम मुआयना किया।

    दोनों सड़क निर्माण क्षेत्र के आसपास के गांव के नागरिकों ने बताया कि HAM प्रकल्प के तहत पिछले 2-3 साल से धीमी गति से निम्न स्तर का काम शुरू हैं.

    प्रमुख मुद्दे:
    – दोनों तरफ की घटिया स्तर का ड्रेन का निर्माण
    – GSB वाइडनिंग सेटेलमेंट ( क्रेश डेवलपमेंट हुआ ) अर्थात ठीक ढंग से न होने के कारण आवाजाही से दब रहा
    – सड़क के HALF SIDE वाइंडिंग अर्थात BM COMPLETE किया गया.
    – आधे-अधूरे-घटिया निर्माण कार्य से आसपास के गांव वासी सह रोजाना आवाजाही करने वाले सड़कों से उड़ रहे धूल और धूल से होने वाली तकलीफों से जूझ रहे.
    – सड़क की कुल चौड़ाई में से 4.5 मीटर ही BT किया गया.
    – डामर वर्क में पैच DEVELOP हो गया.
    – RIDNING QUALITY निम्न स्तर की हैं.
    – प्रत्येक 1 से 2 किलोमीटर सड़क का हिस्सा खोद कर रख दिया गया.
    – एक SIDE का किलोमीटर WORK DONE दिखाकर पैसा उठाने का आरोप लगाया गया.
    – जब HAM प्रोजेक्ट में ठेकेदार कंपनी को DESIGN देनी होती हैं तो CRACKS क्यों,बड़ा सवाल
    – सड़क के लेयर कौन DECIDE करता हैं,दूसरा बड़ा सवाल
    – EXSITING BT ROAD पर कोई STREAGTHING न करते हुए उसी के ऊपर से पुनः BT WORK किया गया.
    – WIDENING WORK में बिना WATERING और COMPECTION.
    – WIDENING के हर लेयर में DENSITY CHECK करनी पड़ती हैं,जिसका कोई अता-पता नहीं।
    – चल रहे निर्माणकार्य क्षेत्र में कोई भी SAFETY MEASURES नहीं दिखी।
    – चल रहे निर्माणकार्य क्षेत्र के निर्माण किये सभी ब्रिज का ऊपरी भाग उबड़-खाबड़ हो गया.
    – वाइंडिंग पोरशन पर बोगस कामकाज शुरू है,
    – सड़क में इस्तेमाल की जा रही मुरुम,गिट्टी के लिए जिला खनन विभाग से मंजूरी मिली लेकिन उससे भी ज्यादा खोद-काम किया गया.वन क्षेत्र में बिना अनुमति के पक्की सड़क आवाजाही के बनाई गई.

    उक्त KCC ( Khalatkar Construction Company ) और DC GURBAKSHANI द्वारा किये जा रहे निर्माण कार्यों की सघन,सूक्षम जाँच स्वतंत्र एजेंसी से करवाने की मांग एमओडीआई फाउंडेशन ने की हैं अन्यथा सरकारी संपत्ति और राजस्व का नुकसान का मामला लेकर जनहित में न्यायालय में याचिका दायर करने की जानकारी उन्होंने दी.

    उल्लेखनीय यह हैं कि दोनों ही सड़कों पर ठेकेदार कंपनी के जिम्मेदार अधिकारी/कर्मी नहीं दिखें और जो मिले उन्हें जिम्मेदार PWD अधिकारियों के बारे में पता नहीं था.

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145