| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Wed, Dec 16th, 2020

    गोंदिया: टैक्स नहीं चुकाओगे, तो व्यापार नहीं कर पाओगे ?

    नगर परिषद का प्रॉपर्टी धारकों पर 11 करोड़ बकाया , जब्ती कार्रवाई शुरू

    गोंदिया:मालमत्ता धारकों व दुकानदारों से प्रॉपर्टी टैक्स तथा किराए के रूप में करोड़ों की उत्पन्न गोंदिया नगर परिषद को होती है और इन रुपयों के माध्यम से ही नगर के विकास कार्य किए जाते हैं लेकिन प्रॉपर्टी धारकों द्वारा नियमित टैक्स अथवा किराया अदा न करने की वजह से गोंदिया नगर परिषद आर्थिक संकट से जूझ रही है।

    इस बिगड़ी हुई अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए गत सप्ताह जिलाधिकारी दीपककुमार मीणा ने मालमत्ता कर विभाग की समीक्षा बैठक करते हुए सख्ती से टैक्स वसूली के निर्देश नगर परिषद मुख्य अधिकारी करण चौहान को जारी किए जिसके बाद बकाया किराएदार व प्रॉपर्टी धारकों की सूची तैयार करते हुए थकबाकी पुराना टैक्स रकम तत्काल जमा करने को कहा गया साथ ही जिन प्रॉपर्टी धारकों ने गत अनेक वर्षों से टैक्स अदा नहीं किया था उन्हें महाराष्ट्र नगर परिषद औद्योगिक अधिनियम 1965 के कलम 185 के तहत नोटिस भेजा गया , साथ ही कलम 52 के तहत प्रॉपर्टी जब्ती नोटिस इशू किया गया था।

    बावजूद इसके जिन मालमत्ता धारकों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया अब उनकी प्रॉपर्टी सील करने की कार्रवाई शुरू की गई है।

    BSNL इमारत पर जड़ा ताला
    31 मार्च क्लोजिंग को देखते हुए बकाया टैक्स वसूली को लेकर न.प मुख्य अधिकारी करण चौहान ने खुद मोर्चा संभाल लिया है उनके निर्देश पर नगर परिषद के टैक्स विभाग वसूली पथक ने 15 दिसंबर को जब्ती कार्रवाई के दौरान भारत संचार निगम लिमिटेड ( बीएसएनल) के भवन को सील कर दिया।
    बताया जाता है कि नियमित टैक्स अदा न करने की वजह से बीएसएनएल इमारत पर 5 लाख 50 हजार 782 रुपए का टैक्स बकाया है। यह थकबाकी रकम जमा करने हेतु अनेक मर्तबा अनुरोध किया गया लेकिन संचार निगम के अधिकारियों ने अनदेखी की इसलिए संभवत पहली बार शासकीय प्रॉपर्टी सील करने जैसी कार्रवाई शहर में देखने को मिली।

    हालांकि दूरसंचार निगम अधिकारी ने जिलाधिकारी कार्यालय मैं जाकर 15 दिनों के मौहलत की गुहार लगाई है , देखना दिलचस्प होगा मोहलत मिलती भी है या नहीं ?

    विशेष उल्लेखनीय के गोंदिया नगर परिषद के दायरे के अंतर्गत घर , मकान , दुकान , प्लाट , दफ्तर ऐसे लगभग 38 हजार प्रॉपर्टी धारक आते हैं इनमें नगर परिषद मिल्कियत की 1077 दुकानें भी शामिल है इन मालमत्ता धारकों और किरायेदारों पर टैक्स व किराए के रूप में 11 करोड़ रुपए बकाया है जिनमें से इस वर्ष अब तक 1 करोड़, 78 लाख की टैक्स वसूली की जा चुकी है जिसमें गत 4 दिनों के भीतर अभियान चलाकर तकरीबन 42 लाख रुपए का टैक्स वसूला गया है।

    नगर परिषद अधिकारियों द्वारा बकाया टैक्स वसूली के लिए लक्ष्य निर्धारित किया गया है लिहाजा टार्गेट को पूरा करने हेतु ऐसी प्रॉपर्टी जब्ती की कार्रवाई आगे भी देखने को मिल सकती हैं।

    दूरसंचार भवन जब्ती की कार्रवाई नगर परिषद टैक्स विभाग के निरीक्षक विशाल बनकर , सहायक कर निरीक्षक प्रदीप घोड़ेस्वार , टैक्स दफ्तर कर्मचारी श्यामस्वरूप यादव , प्रदीप मिश्रा , सुशील बिसेन , श्याम शेंडे , पप्पू नकासे , मोहित राजनकर द्वारा की गई।

    रवि आर्य

    Trending In Nagpur
    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145