Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Fri, Jan 15th, 2021
    nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

    गोंदिया:अस्पताल के कंपाउंड मे ‘ मर्डर

    व्यवसायिक प्रतिस्पर्धा के चलते रेत माफियाओं में छिड़ा खूनी संघर्ष

    गोंदिया: रेती की आवक कम और डिमांड अधिक होने की वजह से इन दिनों रेती के दाम आसमान छू रहे हैं और यह धंधा मुनाफे का सौदा बन चुका है।

    बिना नीलाम हुए जिले के रेती घाटों से अवैध उत्खनन कर चुराई गई रेत , राजस्व अधिकारियों और पुलिस विभाग की हथेली गर्म कर टैक्टर-टिप्पर द्वारा खुले बाजार में लाई जा रही है।

    अवैध उत्खनन ,रेती तस्करी और परिवहन के इस काले कारोबार में दबंग प्रवृत्ति के असामाजिक तत्व भी हाथ आजमा रहे हैं।

    आपसी व्यापारिक प्रतिस्पर्धा के चलते गत दिनों अर्जुनी मोरगांव में एक प्राणघातक हमले का मामला सामने आया अब गोंदिया शहर के रामनगर थाना अंतर्गत आने वाले रिंग रोड स्थित सहयोग हॉस्पिटल के कंपाउंड के अंदर तथा अस्पताल के बाहर (साइकिल स्टैंड ) के पास देर रात हुई कत्ल की वारदात से सनसनी मची है।

    हमलावरों ने 14 जनवरी गुरुवार रात 10 बजे धापेवाड़ा निवासी रवि बंभारे नामक व्यक्ति पर हथियारों से ताबड़तोड़ धावा बोल दिया और उसकी निर्मम हत्या कर दी।

    मृतक रवि बंभारे के विषय में बताया जाता है कि वह रेती तस्करी के धंधे में लिप्त था तथा 25 फरवरी 2020 को स्थानिक अपराध शाखा ( एलसीबी टीम ) ने धापेवाड़ा के वैनगंगा नदी घाट पर कार्रवाई करते जेसीबी द्वारा नदी से रेत निकाल उसे टिपर में भरते हुए ३ साथियों के साथ पकड़ा था तथा पुलिस ने 42 लाख रुपए का साहित्य जप्त कर ४ आरोपियों के खिलाफ दवनीवाड़ा थाने में अपराध क्रमांक 67/ 2020 के भादंवि 379 , 34 ,109 का जुर्म दर्ज किया था। पुलिस के मुताबिक मृतक रवि बंभारे पर एक कत्ल जैसी वारदात का जुर्म भी दर्ज बताया जाता है जिसमें वह फिलहाल जमानत पर रिहा था।

    रेती तस्करी में 8 से 10 गिरोह सक्रिय
    जानकारों की मानें तो रेत माफियाओं के 8 से 10 गिरोह रेती तस्करी के धंधे में इन दिनों सक्रिय हैं जिन का मकड़जाल कामठा के कटंगटोला, छपिया , मुंडेसरा, बनाथर , कासा, डांगोरली , महलगांव , धापेवाड़ा , साईंटोला रेती घाट तक फैला हुआ है ।

    पुलिस डिपार्टमेंट से लेकर महसूल (राजस्व) विभाग सबको इंट्री जाती है।

    एक टिप्पर की मंथली एंट्री 1 लाख 40 हजार तथा एक ट्रैक्टर की एंट्री 90 हजार मंथली बताई जाती है।

    इन रेती माफियाओं द्वारा बकायदा तहसील ऑफिस , माइनिंग विभाग , पुलिस डिपार्टमेंट के अधिकारियों को लिस्ट दी जाती है कि इस महीने मेरी यह-यह नंबर की गाड़ियां अवैध रेती उत्खनन और परिवहन में इस्तेमाल होंगी जिस पर कभी कार्रवाई नहीं होती ?

    जिन गाड़ियों की इंट्री भ्रष्ट विभाग को नहीं आती सिर्फ उसी की धरपकड़ की जाती है और उसी की प्रेस नोट जारी होती है।

    मर्डर की वजह पैसे के लेन-देन का व्यवहार-थाना प्रभारी घुगे
    नागपुर टुडे से बात करते रामनगर थाना प्रभारी घुगे ने बताया- इस मर्डर केस में शामिल अब तक कोई भी आरोपी गिरफ्तार नहीं हुआ है प्रारंभिक जांच में अब तक यही सामने आया हैं कि मृतक और आरोपी के बीच पैसे का लेनदेन का व्यवहार था , अभी आरोपी मिलने के बाद बाकी क्लियर होगा ?

    यह इन्वेस्टिगेशन का पार्ट है इसीलिए आरोपियों के नाम अभी डिस्क्लोज करना उचित नहीं है ? पुलिस ने इस प्रकरण के संदर्भ में मृतक रवि बंभारे के भाई फरियादी राजू बंभारे(रा.
    लोधीटोला) के शिकायत पर फरार आरोपियों के खिलाफ धारा 302 , 34 का जुर्म दर्ज किया है, फरार आरोपियों की धरपकड़ तेज कर दी गई है।
    *-रवि आर्य*

    Trending In Nagpur
    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145