Published On : Wed, Jan 11th, 2017

नियम के विरुद्ध हॉकर्स को फुटपाथ पर जगह देने का निर्णय? मनपा प्रशासन का अजब कारभार, १२ जनवरी को न्यायलय में पेश करना है स्पष्टीकरण

Burdi Hawkers (6)
नागपुर:
मनपा प्रशासन द्वारा शहर के फुटपाथों पर हॉकर्स जोन का सपना साकार करने का इरादा दिख रहा है. एक तरफ शहर के व्यस्तम इलाकों के फुटपाथों से अतिक्रमण हटाये जाने की कार्रवाई बड़े जोरशोर से जारी है तो दूसरी ओर झाँसी रानी चौक, मेयो अस्पताल, गणेशपेठ बस स्टैंड के फुटपाथों पर हॉकर्स को जगह देकर हॉकर्स जोन की घोषणा की गई. इस वजह से फुटपाथों को अतिक्रमणकारियों से मुक्त रख पैदल आवाजाही करने वालों को सुविधा देने के मामले में प्रशासन अपने ही बुने जाल में फंस गई.

हॉकर्स जोन नीति के अनुसार मनपा प्रशासन को फुटपाथ पर व्यवसाय करने वालों के लिए हॉकर्स जोन की स्थापना करनी चाहिए लेकिन मनपा प्रशासन ऐसा करने के बजाय राहगीरों से उनके हक़ का फुटपाथ ही छीने ले रहा है.

मंगलवार १० जनवरी को झाँसी रानी चौक के समीप स्थित मातृसेवा संघ के सामने की फुटपाथ पर ६० हॉकर्स, मेयो अस्पताल के सामने के फुटपाथ पर १५, गणेशपेठ बसस्टैंड के फुटपाथ पर २० हॉकर्स को मनपा प्रशासन ने जगह आवंटन किया है.

नागपुर शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के क्रम में शहर यातायात व्यवस्था पर भी ध्यान केंद्रित किया जा रहा है.इस क्रम में एक तरफ फुटपाथ अतिक्रमणकारियों से मुक्त करने और सड़क की दुर्दशा सुधारने पर बल दिया जा रहा है तो दूसरी ओर मनपा की हॉकर्स टाऊन वेंडिंग कमिटी फुटपाथों पर हॉकर्स को जगह देकर स्मार्ट सिटी बनने से रोक रही है.

पिछले कई महीनो से हॉकर्स का पुनर्वसन का मामला मनपा प्रशासन के लिए सरदर्द बना हुआ था. उच्च न्यायलय में भी फुटपाथ और अतिक्रमण से संबंधित एक याचिका विचाराधीन है. १२ जनवरी को मनपा प्रशासन इस मामले पर अपना स्पष्टीकरण उच्च न्यायलय में पेश करेगा. क्या मनपा प्रशासन ने तय नीति के अनुसार हॉकर्स को फुटपाथों पर अधिकृत रूप से जगह आवंटित की? इस सवाल के जवाब में मनपा प्रशासन उच्च न्यायालय में क्या पक्ष पेश करता है, इस ओर सभी की निगाहें हैं.

Comments

Stay Updated : Download Our App