Published On : Fri, Apr 21st, 2017

“मलबार कॉलोनी” में निर्मित हो रही अवैध बहुमंजिली इमारत पर चला जिला प्रशासन का डंडा जिलाधिकारी के निर्देश पर नायब तहसीलदार व तहसीलदार ने आज मौका निरीक्षण किया,8 दिनों में निर्माणधीन प्लाट की मालकी सिद्ध करने का निर्देश दिया, पंचनामा पर हस्ताक्षर करने के डर से हुए गायब

नागपुर: जिलाधिकारी कार्यालय ,नागपुर सुधार प्रन्यास व नागपुर महानगरपालिका प्रशासन की बिना अनुमति लिए उक्त प्रशासन के सम्बंधित विभाग के अधिकारियों की शह पर सरकारी जमीन पर विवादास्पद “मलबार कॉलोनी” में एक आलीशान इमारत खड़ा किया गया है.उक्त मामले का खुलासा मलबार कॉलोनी रेसिडेंसियल असोसिएशन ने किया है. कल २० अप्रैल २०१७ दोपहर एसोसिएशन के […]

नागपुर: जिलाधिकारी कार्यालय ,नागपुर सुधार प्रन्यास व नागपुर महानगरपालिका प्रशासन की बिना अनुमति लिए उक्त प्रशासन के सम्बंधित विभाग के अधिकारियों की शह पर सरकारी जमीन पर विवादास्पद “मलबार कॉलोनी” में एक आलीशान इमारत खड़ा किया गया है.उक्त मामले का खुलासा मलबार कॉलोनी रेसिडेंसियल असोसिएशन ने किया है.

कल २० अप्रैल २०१७ दोपहर एसोसिएशन के प्रतिनिधि विजय गोलछा,मोहन कापरे,टी. सिंह,सचिव प्रकाश वंजारी व अध्यक्ष मेहंदी रत्न आदि जिलाधिकारी से मिले। उन्होंने शिकायतकर्ता के शिकायत के आधार पर नायब तहसीलदार,तहसीलदार,पटवारी में मौका निरीक्षण किया। निरीक्षण में खुलासा हुआ कि वह जमीन एमईसीएल व जिलाधिकारी गावठान (खसरा क्रमांक -1) है। इसी खसरा क्रमांक 1 पर अवैध इमारत का निर्माणकार्य जारी है। इमारत के निर्माणकर्ता ने मंजूरी खसरा क्रमांक 2/1 पर ली,जबकि खसरा क्रमांक 2/1 के 2200 वर्ग मीटर जगह थी,इस जगह का 8 प्लाट बनाकर वर्ष 1980 में बेच दिया था। इस अवैध अर्धनिर्मित इमारत 19 फ्लैट है।

जिला प्रशासन की टीम ने पंचनामा किया और अवैध इमारत के मुखिया के नाम उसके पार्टनर गुलाबसिंह बघेल को नोटिस थमाए। इनको 8 दिन में संबंधित कागजात पेश करने का निर्देश दिया।

मलबार कॉलोनी में गत माह से आलीशान बहुमंजिली इमारत का निर्माणकार्य जारी है.अबतक पांच मंजिल का निर्माणकार्य हो चूका है.इस इमारत में कुल १९ फ्लैट है.इन फ्लैटों की अंदाजन कीमत ७५ लाख से १ करोड़ रूपए रखी गई है.इस इमारत के निर्माणकर्ता ( बिल्डर) ने कॉलोनी के सड़क पर अतिक्रमण कर रखा है.इस मार्ग से आवाजाही बाधित है और सवालकर्ताओं को कानूनन वैधता का पाठ पढ़ाते रहते है.

मलबार कॉलोनी रेसिडेंसियल असोसिएशन के पदाधिकारी के अनुसार खसरा क्रमांक २/१ खेती की जमीन थी,कुल २२०० वर्ग मीटर जगह थी। जिसे ८ प्लॉट सह २ सड़क बनाकर बेच दिया गया.

उक्त जमीन को बेचने वाले रामदेवबाबा इंजीनियरिंग कॉलेज के ने एमईसीएल और जिलाधिकारी गावठान (खसरा क्रमांक -1) की जमीन अवैध रूप से हथिया कर ( लगभग २२०० वर्ग मीटर) उसपर प्लाट क्रमांक ३९ व ३९ अ दर्शाया। प्लॉट क्रमांक ३९ पर कचरागृह व प्लॉट क्रमांक ३९ अ पर उक्त अवैध इमारत का निर्माणकार्य कर रहा है.

असोसिएशन के पदाधिकारी का आरोप है कि खसरा क्रमांक २/१ के अधिकृत कागजात का पुनः उपयोग कर मनपा नगर रचना विभाग से साठगांठ कर उक्त अवैध इमारत निर्माण हेतु नक्शा मंजूर करवाया।

ज्ञात हो कि मलबार कॉलोनी परिसर का विकास नासुप्र ने गुंठेवारी योजना ( १९०० लेआउट) के तहत की थी. ने अपने मनसूबे को पूरा करने के लिए उक्त अवैध निर्माणकार्य हेतु नासुप्र को दरकिनार किया क्योंकि उक्त अवैध रूप से कब्ज़ा की जमीन नासुप्र की नहीं थी.इसलिए मनपा नगर रचना विभाग के जरिये कागजों की हेराफेरी कर बड़े घोटाले को अंजाम देने के फ़िराक में थे.नासुप्र के टीम की ३-४ दफे घटनास्थल याने जहाँ अवैध निर्माणकार्य हो रहा है,वहां की जाँच की,तो उन्होंने खुलासा किया की उक्त इमारत को नासुप्र में मंजूरी नहीं दी. और मैथयु की मिलीभगत से हड़पी गई सड़क को अवैध ठहराया।इस मार्ग को दोनों ने आधा-आधा बाँट कर कब्ज़ा कर रखा है.इस सन्दर्भ में एक महत्वपूर्ण कागजात/नोटिस नासुप्र ने एसोसिएशन को थमाया।

इसके बाद असोसिएशन के पदाधिकारी मनपा नगर रचना विभाग प्रमुख थुल से मिले तो वे मसाला समझ सुलझाने के बजाय लंबी-चौड़ी प्रक्रिया के लिए कड़क निर्देश दिए.अंत में थक-हार कर पदाधिकारी आज जिलाधिकारी कार्यालय परिसर में आज गुरुवार २० मई २०१७ को सम्बंधित तहसीलदार से मिले,फिर जिलाधिकारी से मिल उक्त घटना से रु-ब-रु करवाया।मामले की गंभीरता को देख जिलाधिकारी ने तहसीलदार को तत्काल मौका निरिक्षण के लिए निर्देश दिए.जिलाधिकारी के निर्देश पाते ही आज दोपहर को तहसीलदार,नायब तहसीलदार ने निरिक्षण किया। घटनास्थल पर मिले ठेकेदार कुलकर्णी से जाँच दल ने ‘टायटल दीड’ सह सम्पूर्ण कागजात की मांग की तो कुलकर्णी ने को बुलाया।कुछ देर में सह उनका साझेदार जाँच दल के समक्ष पहुंचे।जाँच दल ने पंचनामा तैयार कर जब उसपर को हस्ताक्षर करने के निर्देश दिए तो वह अपने साझेदार बघेल को हस्ताक्षर करने के निर्देश देकर नौ दो ग्यारह हो गया.पंचनामे के हिसाब से दिनों में उक्त जमीन की मालिक होने सम्बन्धी कागजात,मंजूर नक्शा आदि पेश करने के निर्देश दिए. संभवतः कल जिला प्रशासन सभी को नोटिस की प्रत थमाएंगी।

असोसिएशन के पदाधिकारी नोटिस प्राप्त करते ही मनपा आयुक्त से मिलकर नगर रचना विभाग व विभाग प्रमुख को सामने रख न्याय की मांग व दोषी/जिम्मेदार को क़ानूनी सजा देने की मांग करेंगे।

अवैध इमारत को वैध नल,बिजली कनेक्शन
मनपा,नासुप्र के मंजूरी के बिना उक्त इमारत के निर्माणकार्य हेतु मनपा जलप्रदाय विभाग ने अनाधिकृत नल कनेक्शन और एमएसईबी ने बिजली के कनेक्शन दिए है.नल व बिजली कनेक्शन खसरा क्रमांक 2/1 के नाम है।

कल गुरुवार को जिलाधिकारी के निर्देश पर नायब तहसीलदार,तहसीलदार मुआयना कर पंचनामा बनाते हुए

मलबार कॉलोनी में अवैध निर्माणकार्य व हड़पी सड़क संबंधित फ़ोटो

मलबार कॉलोनी से संबंधित डॉक्यूमेंट

– राजीव रंजन कुशवाहा

Stay Updated : Download Our App
Sunita Mudaliar - Executive Editor
Advertise With Us